comScore

All Party Meeting: चीन पर एक्शन को लेकर सभी दल आए एक साथ, मोदी से कहा, ठोस कार्रवाई हो

All Party Meeting: चीन पर एक्शन को लेकर सभी दल आए एक साथ, मोदी से कहा, ठोस कार्रवाई हो

हाईलाइट

  • लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर चीन से तनातनी
  • झड़प में 20 जवानों की शहादत के बाद एक्शन में मोदी सरकार
  • विवाद पर चर्चा के लिए पीएम की अगुवाई में सर्वदलीय बैठक आज
  • लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर चीन से लगातार तनातनी जारी है
  • इसे लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई
  • कांग्रेस सहित विभिन्न विपक्षी दलों ने सरकार से कहा कि सीमा पर स्थिति के बारे में उसे पारदर्शी होना चाहिए

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर चीन से लगातार तनातनी जारी है। सीमा पर भारत और चीन के बीच गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में भारत के 20 जवानों के शहीद होने के बाद से माहौल और ज्यादा तनावपूर्ण हो गया है। इसे लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस. जयशंकर के साथ सभी दलों के नेताओं ने एक सुर में सरकार का समर्थन किया। 

बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, जद(यू) नेता नीतीश कुमार, द्रमुक के एम के स्टालिन, एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार, टीआरएस नेता के चंद्रशेखर राव, वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के वाईएस जगन मोहन रेड्डी और शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे भी शामिल हुए। सरकार ने प्रमुख राजनीतिक दलों के अध्यक्षों को बैठक के लिए आमंत्रित किया था। कांग्रेस सहित विभिन्न विपक्षी दलों ने सरकार से कहा कि सीमा पर स्थिति के बारे में उसे पारदर्शी होना चाहिए।

समाजवादी पार्टी ने क्या कहा
समाजवादी पार्टी की तरफ से रामगोपाल यादव बैठक में शामिल हुए। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और चीन की नीयत पहले से खराब रही है। चीन के सामान का बहिष्कार करने के लिए रामगोपाल यादव ने चीनी सामान पर 300 पर्सेंट ड्यूटी लगाने की मांग की।

वाईएसआर कांग्रेस ने क्या कहा
वाईएसआर कांग्रेस (YSRCP) के प्रमुक जगन मोहन रेड्डी ने कहा कि पीएम मोदी आप हमारी शक्ति हैं। चीन भारत में हलचल पैदा करना चाहता है, इसलिए इस तरह की हरकत कर रहा है।

ममता बनर्जी ने क्या कहा
टीएमसी प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि इस मामले को लेकर सर्वदलीय बैठक से देश में सकारात्मक और मजबूत संदेश जाएगा। यह संदेश देगा कि पूरा देश सेना के जवानों के साथ एकजुट होकर खड़ा है।

गौरतलब है कि इस घटना से देश के लोगों में आक्रोश है और चीन को कड़ा दवाब देने की मांग भी उठ रही है। वहीं भारतीय जवानों के साथ चीन की इस हरकत के बाद अब मोदी सरकार भी एक्शन में आ गई है।

RJD को आमंत्रण नहीं, तेजस्वी ने पूछा- मापदंड क्या?
हालांकि कुछ राजनीतिक दलों को न्योता नहीं मिला है, इसके कारण विवाद भी हो रहा है। बैठक में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) को नहीं बुलाए जाने पर राजद के नेताओं ने नाराजगी जाहिर की है। बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा है, राजद को इस सर्वदलीय बैठक में नहीं बुलाया गया है। उन्होंने सवाल किया है कि, प्रधानमंत्री कार्यालय और रक्षा मंत्री से जानना चाहता हूं कि इस सर्वदलीय बैठक में राजनीतिक दलों को बुलाने का मापदंड क्या है? हमारी पार्टी को अब तक इस बैठक में भाग में लेने के लिए आमंत्रण नहीं आया है।

कंटीले तारों वाले डंडों से जवानों पर किया गया वार
दरअसल 15-16 जून की रात को लद्दाख में गलवान घाटी के पास भारत-चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई थी। कर्नल संतोष बाबू की अगुवाई में भारतीय सैनिक हालात का जायजा लेने पहुंचे थे, इसी दौरान चीनी सैनिकों ने हमला कर दिया। भारत के जवानों को कंटीले तारों वाले डंडों से मारा गया। दोनों देशों के बीच हुए इस संघर्ष में कर्नल संतोष बाबू समेत भारत के 20 जवान शहीद हो गए। वहीं ANI के मुताबिक, चीनी सेना के कमांडिंग अफसर समेत 43 जवान हताहत हुए लेकिन चीन ने अभी तक इसे स्वीकार नहीं किया है।

कमेंट करें
eLY2n