टीकाकरण: वैक्सीन लेने वाली गर्भवती महिलाओं की निगरानी को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने भेजा केंद्र को नोटिस

September 21st, 2021

हाईलाइट

  • वैक्सीन लेने वाली गर्भवती महिलाओं की निगरानी की मांग वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को भेजा नोटिस

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को दिल्ली बाल अधिकार संरक्षण आयोग (डीसीपीसीआर) की उस याचिका पर केंद्र को नोटिस जारी किया, जिसमें गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए कोविड टीकाकरण का मुद्दा उठाया गया था।

डीसीपीसीआर का प्रतिनिधित्व करने वाली अधिवक्ता वृंदा ग्रोवर ने न्यायमूर्ति डी. वाई. चंद्रचूड़ और बी. वी. नागरत्ना की पीठ से कहा कि इस साल मई में याचिका दायर होने के बाद, केंद्र ने गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के टीकाकरण पर परिचालन दिशानिर्देश जारी किए थे। उन्होंने कहा, हालांकि, अब वे कहते हैं कि टीकाकरण के कारण उन पर कुछ प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।

उन्होंने तर्क दिया कि ऐसी स्थितियों वाली महिलाओं को उच्च जोखिम वाली श्रेणियों के रूप में घोषित करने की आवश्यकता है। ग्रोवर ने कहा कि उन पर टीकाकरण के प्रभावों पर निरंतर शोध करने की आवश्यकता है, साथ ही गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताओं के पंजीकरण के लिए एक मंच बनाने की आवश्यकता है, जो प्रभावी निगरानी के लिए आवश्यक है।

पीठ ने कहा कि वह भारत संघ को नोटिस जारी करेगी और दो सप्ताह में इसका जवाब मांगेगी। अदालत ने गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं के टीकाकरण के लिए बनाई गई नीति के बारे में अदालत को अवगत कराने के लिए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से भी मदद मांगी। पीठ ने अपने आदेश में कहा, भारत संघ को नोटिस जारी किया जा रहा है। विद्वान सॉलिसिटर जनरल को उस नीति पर अदालत की सहायता करने की आवश्यकता है, जिसे तैयार किया गया है और जो दिशानिर्देश तैयार किए जाने हैं।

(आईएएनएस)