दैनिक भास्कर हिंदी: ‘हिंदू पाकिस्तान’ पर बवाल, कोलकाता की कोर्ट ने शशि थरूर को भेजा समन

July 14th, 2018

हाईलाइट

  • कांग्रेस सांसद शशि थरूर के 'हिंदू पाकिस्तान' बयान पर बवाल।
  • कोलकाता की एक कोर्ट ने शशि थरूर को भेजा समन।
  • कोर्ट ने थरूर को 14 अगस्त को पेश होने का आदेश दिया है।
  • वकील सुमीत चौधरी ने थरूर के बयान के खिलाफ याचिका दायर की थी।
  • थरूर पर हिंदुओं की भावना और आस्था को ठेस पहुंचाने का आरोप।


डिजिटल डेस्क, कोलकाता। कांग्रेस सांसद शशि थरूर के 'हिंदू पाकिस्तान' बयान पर बवाल मच गया है। बीजेपी - कांग्रेस के बीच जुबानी जंग और बयान की आलोचनाओं के बाद अब कोर्ट ने थरूर की मुश्किल बढ़ा दी है। कोलकाता की एक कोर्ट ने शशि थरूर को समन जारी कर 14 अगस्त को कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया है।

 



सुमीत चौधरी नाम के वकील ने थरूर के बयान के खिलाफ कोलकाता की एक कोर्ट में याचिका दायर की थी। याचिका में कहा गया था कि शशि थरूर ने 'हिंदू पाकिस्तान' कहकर देश के करोड़ों हिंदुओं की भावना और आस्था को ठेस पहुंचाया। उन्होंने संविधान का भी अपमान किया है। इस याचिका पर कोर्ट ने सुनवाई करते हुए कांग्रेस सांसद को समन भेजा। कोर्ट ने थरूर को 14 अगस्त को कोर्ट में पेश होने को कहा है।

 

तिरुवनंतपुरम में दिया था 'हिंदू पाकिस्तान' वाला बयान


गौरतलब है कि हाल ही में तिरुवनंतपुरम में एक जनसभा को संबोधित करते हुए शशि थरूर ने कहा था, अगर बीजेपी 2019 का लोकसभा चुनाव जीतती है तो भारत 'हिंदू पाकिस्तान' बन जाएगा। उन्होंने कहा था, बीजेपी अपना एक नया संविधान लिखेगी जिससे ऐसे राष्ट्र का निर्माण होगा जो पाकिस्तान की तरह होगा और जहां अल्पसंख्यकों के अधिकारों का कोई सम्मान नहीं होगा।

 

 

थरूर के इस बयान पर पटलवार करते हुए बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा था कि, कांग्रेस सांसद ने इस बयान से देश के संविधान और हिंदुओं को नीचा दिखाने की कोशिश की है। उन्होंने कांग्रेस को पाकिस्तान के निर्माण के लिए जिम्मेदार बताया था साथ ही थरूर के बयान के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को माफी मांगने के लिए कहा था। वहीं थरूर के बयान पर बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने कहा था, पार्टी के मुखिया को चाहिए कि उन्हें पार्टी से निष्कासित करें।

 

 

शशि थरूर इतने में ही नहीं रुके थे। पात्रा के बयान पर थरूर ने कहा था कि अगर बीजेपी हिंदू राष्ट्र की अवधारणा में विश्वास नहीं करती है तो उसे ऑन रिकॉर्ड कहना चाहिए, वह हिंदू राष्ट्र में नहीं बल्कि एक धर्मनिरपेक्ष गणराज्य में भरोसा करती है। इससे बहस ही खत्म हो जाएगी।  

 

 

हालांकि पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी सहित कई दिग्गजों ने थरूर के बयान का समर्थन किया था, लेकिन कांग्रेस ने अपने नेताओं से सोच समझ कर बोलने को कहा था। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने इसको लेकर कई ट्वीट किए थे।

 

 

सुरजेवाला ने अपने एक ट्वीट में कहा था, कांग्रेसी नेताओं को अपनी ऐतिहासिक ज़िम्मेदारी समझनी होगी और बीजेपी की नफरत की राजनीति को खारिज करने के लिए सोच समझकर शब्दों और मुहावरों का चुनाव करना होगा।