ओमिक्रॉन: तमिलनाडु के डॉक्टरों की शिक्षण संस्थानों को ऑनलाइन मोड में ले जाने की पैरवी

December 27th, 2021

हाईलाइट

  • सभी तरह के समारोहों को रोकने का अनुरोध किया ताकि प्रसार को रोका जा सके।

डिजिटल डेस्क, चेन्नई । तमिलनाडु सरकार के डॉक्टर्स एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन स्कूल और कॉलेज की कक्षाओं को पूरी तरह से ऑनलाइन मोड में स्थानांतरित करने के लिए कहा है।एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ के सेंथिल ने कहा कि कोरोनावायरस का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन तेजी से फैल रहा है, ये पहले के डेल्टा वेरिएंट की तुलना में 4 गुना तेजी से फैलता है।उन्होंने कहा कि स्कूल और कॉलेज में ऑफलाइन क्लास होने से कोरोना के छात्रों में फैलने की संभावना ज्यादा है। इसलिए इन्हें ऑनलाइन मोड में शुरू किया जाए।

डॉक्टरों के निकाय ने आगे कहा कि प्रतिबंध लगाने का यह सही समय है क्योंकि वेरिएंट तेजी से फैल रहा है और अगर अभी कार्रवाई नहीं की गई तो देर हो जाएगी और इसके मामले बढ़ जाएंगे।एसोसिएशन ने यह भी कहा कि अगर यह बहुत तेजी से फैलता है तो वर्तमान स्तर पर स्वास्थ्य बुनियादी ढांचा बीमारी को संभालने में सक्षम नहीं हो पाएगा।

डॉक्टरों के निकाय ने कहा कि सुरक्षित दूरी, मास्क पहनना और सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना और साबुन से बार-बार हाथ धोना जरूरी है और इनमें से किसी में भी कोई सुस्ती नहीं दिखाई जानी चाहिए।एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री से विवाह समारोहों, धार्मिक समारोहों और मृत्यु शोक और अंत्येष्टि में उपस्थिति सहित सभी तरह के समारोहों को रोकने का अनुरोध किया ताकि प्रसार को रोका जा सके।

इसने वरिष्ठ नागरिकों, स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोरोना फ्रंट लाइन योद्धाओं के साथ-साथ 15-18 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों को बूस्टर खुराक या निवारक खुराक प्रदान करने के निर्णय का भी स्वागत किया।

डॉ के. सेंथिल ने सरकार से आक्सीजन सिलेंडर, स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों के लिए पीपीई किट और कठिन परिस्थितियों में काम करने के लिए दवाओं सहित आपातकालीन स्थितियों को संभालने के लिए सभी आवश्यक चिकित्सा बुनियादी ढांचे का भंडार करने का भी आह्वान किया।

 

(आईएएनएस)