comScore

प्रदेश के 17 सांसदों के निर्वाचन को चुनौती,  हाईकोर्ट में 19 याचिकाएं दायर

प्रदेश के 17 सांसदों के निर्वाचन को चुनौती,  हाईकोर्ट में 19 याचिकाएं दायर

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। हाईकोर्ट में प्रदेश के 17 सांसदों के निर्वाचन को चुनौती देने 19 याचिकाएं दायर की गई हैं । बालाघाट और ग्वालियर के सांसदों के खिलाफ दो-दो याचिकाएं दायर की गई हैं शेष 15 सांसदों के खिलाफ एक-एक याचिकाएं दायर की गई हैं ।

अंतिम तिथि पर 15 याचिकाएं पेश की 

याचिका दायर करने की अंतिम तिथि पर 15 याचिकाएं पेश की गई । 4 चुनाव याचिकाएं पहले दायर की गई थी, हाईकोर्ट में चुनाव याचिकाओं का पंजीयन कर लिया गया है । जल्द ही सुनवाई की जाएगी याचिकाओं में ईवीएम और वीवीपैट मशीन की गड़बड़ी को चुनौती दी गई है । याचिकाओं में चुनाव आयोग और भाजपा नेताओं की मिलीभगत का भी आरोप लगाया गया है लोकसभा चुनाव में हुई गड़बड़ियों की शिकायत चुनाव आयोग से की गई लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई इसकी वजह से उन्हें चुनाव याचिका के जरिए हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा ।
 

यह है याचिकाकर्ता
1 प्रमिला सिंह कांग्रेस शहडोल दीवान 
2 शैलेंद्र सिंह कांग्रेस होशंगाबाद 
3 कंकर मुंजारे बालाघाट 
4 देवाशीष जररिया कांग्रेस 
5 भिंड विष्णु कांत शर्मा ग्वालियर 
6 प्रभु सिंह ठाकुर कांग्रेस सागर 
7 राजकुमार चौहान कांग्रेस सीधी 
8 कांतिलाल भूरिया कांग्रेश रतलाम-झाबुआ 
9 मधु भगत कांग्रेश बालाघाट 
10 कमल मरावी कांग्रेश मंडला
11 पंकज संगी कांग्रेश इंदौर
12 अशोक सिंह कांग्रेस ग्वालियर 
13 बाबूलाल मालवीय कांग्रेश उज्जैन 
14 शैलेंद्र पटेल कांग्रेस विदिशा 
15 डॉक्टर गोविंद सुभान मुजाल्दा कांग्रेश खरगोन
16 प्रताप सिंह कांग्रेस दमोह
17 किरण सिंह अहिरवार कांग्रेश टीकमगढ़ 
18 राजाराम त्रिपाठी कांग्रेश सतना 
19 राकेश दीक्षित भोपाल 
 

ईवीएम-वीवीपैट में बड़े पैमाने पर हुई गड़बड़ी : भूरिया 

चुनाव याचिका दायर करने हाई कोर्ट पहुंचे कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और रतलाम झाबुआ लोकसभा से पराजित कांग्रेसी प्रत्याशी कांतिलाल भूरिया ने कहा कि लोकसभा चुनाव में बड़े पैमाने पर ईवीएम और विविपेट में गड़बड़ी की गई है। इससे कांग्रेस नेताओं कि लोकसभा चुनाव में बड़े अंतर से हार हुई है यही कारण है कि कांग्रेस नेताओं को चुनाव याचिकाओं के जरिए हाईकोर्ट की शरण में आना पड़ा लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को वोट देने वाले अभी तक हतप्रभ है कि ऐसा कैसे हो गया कांग्रेस ने भी चुनाव के बाद सर्वे कराया जिसमें पता चला कि लोगों ने बड़े पैमाने पर कांग्रेस को वोट दिया है, इसके बाद भी कांग्रेस प्रत्याशियों को एक लाख से लेकर 5 लाख  तक के अंतर से हार का सामना करना पड़ा

कमेंट करें
vuQOJ