comScore
Dainik Bhaskar Hindi

7 साल के मासूम के कत्ल का खुलासा, 38 दिन से अटैची में बंद था शव

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 06th, 2018 15:32 IST

7.1k
0
0

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राजधानी में 7 जनवरी की शाम एक 7 साल का मासूम अचानक से गायब हो गया। जिसके बाद एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। मासूम आशीष उर्फ आशु का शव पड़ोसी के घर से पुलिस ने बरामद किया। दिल्ली के स्वरूप नगर इलाके में सात साल के मासूम की हत्या की इस वारदात ने पूरे इलाके में सनसनी फैला दी है। पड़ोसी हत्यारे ने शव को पॉलीथिन में डालकर एक कमरे में 38 दिनों तक सूटकेस में छिपाकर रखा। 

आरोपी ने कबूला जुर्म

इस वारदात का खुलासा तब हुआ जब पुलिस ने मृतक के ‘चाचा’ अवधेश पर संदेह कर कड़ाई से पूछताछ की। बच्चा आरोपी को चाचा कहता था। डीसीपी असलम खान ने बताया कि बच्चे के पैरंट्स पीठ पीछे अवधेश को गाली देते थे। इसका पता चलने पर उसने बदला लेने के लिए बच्चे की हत्या कर दी। इसके बाद में उसने सोचा कि फिरौती भी वसूल ली जाए। 15 लाख रुपए की फिरौती मांगने की उसने योजना बना ली थी।

बता दें कि करण सैनी उर्फ सुरेंद्र परिवार के साथ नत्थुपुरा में दो मंजिला घर में रहते हैं। करण का 7 साल का बेटा आशीष उर्फ आशू गायब हो गया था। जॉइंट फैमिली में करण के पैरंट्स और दो छोटे भाई भी साथ रहते हैं। आरोपी अवधेश भी उसी गली में कुछ ही घरों के फासले पर किराए में रहता है, जो मूल रूप से ऐटा का है। 

बदला लेने की मंशा से की हत्या 

घटना के दिन बच्चे के पिता करण सैनी के साथ आरोपी अवधेश भी संवेदना दिखाते हुए गायब होने की एफआईआर दर्ज करवाने स्वरूपनगर थाने गया था। परिवार ने गुमशुदा बच्चे के फोटो वाले पोस्टर भी जगह-जगह चिपकाए। बताया जा रहा है कि अवधेश जब शहर में नया नया आया तो दूर की जान-पहचान के कारण वह करण के घर ही रहा, लेकिन उसके शराब पीने की आदत के चलते करण ने उसे घर से निकाल दिया। इसके बाद उसने पड़ोस में घर ले लिया और बदला लेने के लिए करण के बेटे आशु को साइकल देने का झांसा देकर कमरे में बुलाया और मौत के घाट उतार दिया। इसके बाद शव को प्लास्टिक में सील कर अटैची में डाल दिया। 

सीसीटीवी के डर से बाहर नहीं ले जा सका शव

चूंकि इलाके में काफी सीसीटीवी हैं और कैमरे में कैद होने के डर से वह अवधेश के शव को बाहर नहीं ले जा सका। इस बीच, बच्चे के शव से बदबू न आए, इसके लिए अवधेश रोज परफ्यूम छिड़कता था। कॉलोनी के लोगों को उसने झूठ बोल रखा था कि वह CBI में काम करता है। कॉलोनी वाले उसे अफसर मानते थे। पुलिस ने अनुसार आरोपी बार-बार अपना बयान बदल रहा है। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

app-download