comScore

एक्ट्रेस नूतन को गूगल ने दिया डूडल का तोहफा

July 27th, 2017 16:02 IST
एक्ट्रेस नूतन को गूगल ने दिया डूडल का तोहफा

एजेंसियां, मुम्बई. गुजरे जमाने की एक्ट्रेस नूतन (मूल नाम नूतन समर्थ) को उनके किरदारों के हाव-भाव के आधार पर गूगल ने  ‘OO’ के जरिए दिखाया है.

नूतन ने 1955 में प्रदर्शित फिल्म ..सीमा..से विद्रोही नायिका के सशक्त किरदार को रूपहले पर्दे पर साकार किया.फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये नूतन को अपने सिने करियर का सर्वश्रेष्ठ फिल्म अभिनेत्री का पुरस्कार भी प्राप्त हुआ. इस बीच नूतन ने देवानंद के साथ पेइंग गेस्ट और तेरे घर के सामने में नूतन ने हल्के-पुल्के रोल कर अपनी बहुआयामी प्रतिभा का परिचय दिया. 1958 में प्रदर्शित फिल्म सोने की चिडि़या के हिट होने के बाद फिल्म इंडस्ट्री में नूतन के नाम के डंके बजने लगे और बाद में एक के बाद एक कठिन भूमिकाओं को निभाकर वह फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित हो गयी. वर्ष 1958 में प्रदर्शित फिल्म ..दिल्ली का ठग.. में नूतन ने स्विमिंग कॉस्टयूम तरण वेश पहनकर उस समय के समाज को चौंका दिया. फिल्म बारिश में नूतन काफी बोल्ड दृश्य दिये जिसके लिये उनकी काफी आलोचना भी हुयी लेकिन बाद में विमल राय की फिल्म सुजाता एवं बंदिनी में नूतन ने अत्यंत मर्मस्पर्शी अभिनय कर अपनी बोल्ड अभिनेत्री की छवि को बदल दिया.

पांच फिल्म फेयर अवार्ड किए अपने नाम

फिल्म ‘कर्मा’ में नूतन ने अभिनय सम्राट दिलीप कुमार के साथ काम किया. इस फिल्म में नूतन पर फिल्माया यह गाना ‘दिल दिया है जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिये’ श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुआ. नूतन की प्रतिभा केवल अभिनय तक ही नही सीमित थी वह गीत और गजल लिखने में भी काफी दिलचस्पी लिया करती थी. हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में बतौर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री सर्वाधिक फिल्म फेयर पुरस्कार प्राप्त करने का कीर्तिमान नूतन और काजोल के नाम संयुक्त रूप से दर्ज है. नूतन अपने सिने कैरियर में पांच बार फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया. लगभग चार दशक तक अपने सशक्त अभिनय से दर्शको के बीच खास पहचान बनाने वाली यह महान अभिनेत्री 21 फरवरी 1991 को इस दुनिया को अलविदा कह गयी.

Loading...
कमेंट करें
DrfNI
Loading...