comScore

क्रीमीलेयर सीमा बढ़ते ही स्कॉलरशिप के लाभार्थी भी बढ़े

February 13th, 2019 14:38 IST
क्रीमीलेयर सीमा बढ़ते ही स्कॉलरशिप के लाभार्थी भी बढ़े

डिजिटल डेस्क, नागपुर। राज्य सरकार द्वारा वर्ष 2018 में प्रदेश के पिछड़ा वर्ग के लिए क्रीमीलेयर सीमा 6 लाख से बढ़ाकर 8 लाख करने के कारण स्कॉलरशिप  के लाभार्थियों की संख्या में इजाफा देखने को मिल रहा है। नई मर्यादा लागू होने के बाद नागपुर विभाग में लाभार्थियों की संख्या 50 प्रतिशत तक बढ़ गई है। दरअसल राज्य में व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने वाले आर्थिक रूप से दुर्बल घटकों के स्टूडेंट्स के लिए राजर्षि छत्रपति शाहू महाराज शिक्षा शुल्क स्कॉलरशिप योजना लागू की गई है। इसके तहत अभियांत्रिकी, औषधि निर्माणशास्त्र, हॉटेल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नॉलॉजी, वास्तुशास्त्र, मास्टर ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट / मास्टर ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज, मास्टर ऑफ कम्प्यूटर एप्लिकेशन, मास्टर ऑफ फार्मेसी में पढ़ रहे स्टूडेंट्स को इस स्कॉलरशिप  का लाभ दिया जाता है। उच्च व तकनीकी शिक्षा सहसंचालक गुलाबराव ठाकरे द्वारा पत्रकार परिषद में दी गई । जानकारी के मुताबिक मर्यादा बढ़ाए जाने के बाद लाभार्थियों की संख्या बढ़ी है । इससे शिक्षा को बढ़ावा मिलने की भी उम्मीद जताई जा रही है।

इस प्रकार दी गई मदद राशि

उल्लेखनीय है कि  वर्ष 2016-17 में नागपुर विभाग के नागपुर, भंडारा, वर्धा, गोंदिया, चंद्रपुर और गड़चिरोली जिलों की 197 शिक्षा संस्थानों के 6094 विद्यार्थियों को कुल 20 करोड़ 19 लाख 28 हजार 180 रुपए की छात्रवृत्ति आवंटित की गई थी। वहीं 28 संस्थानों के 160 विद्यार्थियों को डॉ.पंजाबराव देशमुख छात्रावास निर्वाह भत्ता योजना के तहत 37 लाख 80 हजार 1 रुपए की मदद की गई थी। 

वर्ष 2017-18 में विभाग के 6634 विद्यार्थियों को 24 करोड़ 45 लाख 29 हजार 211 रुपए की छात्रवृत्ति और 142 विद्यार्थियों को 24 लाख 84 हजार रुपए का निर्वाह भत्ता दिया गया था। 

मर्यादा बढ़ने के बाद आवेदनकर्ताओं की संख्या बढ़ गई। मौजूदा शैक्षणिक सत्र मंे अब तक 202 संस्थानों में से 8255 विद्यार्थियों के छात्रवृत्ति के आवेदन मंजूर हुए, 213 के लंबित हैं। इसी तरह 520 विद्यार्थियों के निर्वाह भत्ता के आवेदन मंजूर और 90 के लंबित हैं। 

कमेंट करें
Survey
आज के मैच
IPL | Match 41 | 23 April 2019 | 08:00 PM
CSK
v
SRH
M. A. Chidambaram Stadium, Chennai