comScore
Dainik Bhaskar Hindi

कर्नाटक में वोटिंग होते ही बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए कितना हुआ महंगा

BhaskarHindi.com | Last Modified - May 14th, 2018 12:42 IST

5.3k
0
0
कर्नाटक में वोटिंग होते ही बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए कितना हुआ महंगा


डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कर्नाटक विधानसभा चुनाव होते ही देश में तेल के दाम बढ़ गए हैं। 19 दिन बाद पेट्रोलियम कंपनियों ने दाम बढ़ा दिए हैं। दरसअल क्रूड ऑयल में आ रहे उबाल के कारण बढ़ती कीमतों से आम आदमी को राहत देने और कर्नाटक चुनाव के मद्देनजर सरकारी तेल कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों को 20 दिन तक नहीं बढ़ाया। अब जब कर्नाटक चुनाव खत्म हो गए तो दोबारा आम आदमी की जेब का बोझ बढ़ गया है। दिल्ली में पेट्रोल 17 पैसे वहीं डीजल 21 पैसे महंगा हुआ है। बता दें कि 24 अप्रैल के बाद तेल कंपनियों ने पहली बार रेट में बदलाव किया है। आज पेट्रोल प्राइज 74.80 पैसे है, वहीं डीजल का दाम 66.14 पैसे है। 

16 जून 2017 से ही पेट्रोल और डीजल की कीमतों में रोजाना संशोधन हो रहा है। इससे पहले सरकारी तेल कंपनियां ईंधन की कीमतों की महीने में दो बार समीक्षा किया करती थीं।

गुजरात चुनाव के बाद भी बढ़े थे दाम

गुजरात में विधानसभा चुनाव से पहले दिसंबर 2017 के पहले 15 दिनों में तेल कंपनियों ने प्रतिदिन ईंधन की कीमतों में 1-3 पैसे प्रति लीटर की कटौती की। इसके बाद 14 दिसंबर को मतदान पूरा होते ही कंपनियों ने तत्‍काल कीमतों को बढ़ाना शुरू कर दिया था।

पेट्रोल का दाम

इंडियन ऑयल की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक सोमवार को दिल्ली और मुंबई में पेट्रोल की कीमतों में 17 पैसे और कोलकाता और चेन्नई में 18 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। इस बढ़ोतरी के बाद आज सोमवार को दिल्ली में पेट्रोल का दाम 74.80 रुपए, कोलकाता में 77.50 रुपए, मुंबई में 82.65 रुपए और चेन्नई में 77.61 रुपए प्रति लीटर हो गया है।

डीजल की नई कीमतें

डीजल की बात करें दिल्ली में इसकी कीमतों में 21 पैसे, कोलकाता में 5 पैसे और मुंबई और चेन्नई में 23 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। बढ़ोतरी के बाद अब दिल्ली में डीजल का दाम 66.14 रुपए हो गया है। अन्य शहरों की बात करें तो सोमवार को कोलकाता में डीजल का भाव 68.68 रुपए, मुंबई में 70.43 रुपए और चेन्नई में 69.79 रुपए प्रति लीटर हो गया है।

कच्चे तेल की कीमतें उच्च स्तर पर

दूसरी ओर कच्चे तेल की कीमतें पहले ही तीन साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई हैं। बैंक ऑफ अमेरिका कॉर्पोरेशन के मुताबिक कच्चे तेल की कीमतें अगले साल 100 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच सकती हैं। वेनेजुएला और ईरान में सप्लाइ में कमी आने के चलते यह समस्या पैदा हो सकती है। फिलहाल अंतर्राष्‍ट्रीय बाजार में कच्चा तेल 77 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर चल रहा है। बैंक का कहना है कि 2019 की दूसरी तिमाही तक यह आंकड़ा 90 डॉलर प्रति बैरल तक हो सकता है। इसकी वजह वैश्विक स्तर पर उत्पादन में कमी की स्थिति है। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

ई-पेपर