comScore
Dainik Bhaskar Hindi

मूकबधिर युवतियों ने इशारों में बताया, हॉस्टल संचालक धमकाकर करता है दुष्कर्म

BhaskarHindi.com | Last Modified - August 10th, 2018 16:01 IST

5.8k
0
0
मूकबधिर युवतियों ने इशारों में बताया, हॉस्टल संचालक धमकाकर करता है दुष्कर्म

News Highlights

  • अब मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में भी सामने आया दुष्कर्म का शर्मनाक मामला।
  • छात्रावास में रहकर आईटीआई कर रही मूकबधिर आदिवासी युवतियों से दुष्कर्म।
  • आरोपी के 5 मकानों में 25 से ज्यादा युवतियां पेइंग गेस्ट के तौर पर रहती थीं।


डिजिटल डेस्क, भोपाल। देशभर में महिलाओं से दुष्कर्म के रोजाना ही नए मामले सामने आ रहे हैं। बिहार के मुजफ्फरपुर और उत्तर प्रदेश के देवरिया जैसा शर्मनाक मामला अब मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में भी सामने आया है। छात्रावास में रहकर आईटीआई कर रही मूकबधिर आदिवासी युवतियों ने हॉस्टल संचालक पर दुष्कर्म के संगीन आरोप लगाए हैं। पीड़ित युवती ने धार में दुष्कर्म और दो बहनों ने इंदौर में छेड़छा़ड़ का मामला दर्ज कराया है। दरअसल, भोपाल के अवधपुरी में रहकर आईटीआई कर रहीं युवतियां प्रशिक्षण पूरा कर 2 अगस्त को काउंसलिंग के लिए इंदौर के विजयनगर में मूक बधिर परामर्श केंद्र पहुंची। उन्होंने शिक्षक ज्ञानेंद्र पुरोहित और मोनिका पुरोहित को हॉस्टल संचालक अश्विनी शर्मा के छात्रावास में होने वाली प्रताड़ना के बारे में बताया। अश्विनी के 5 मकानों में 25 से ज्यादा युवतियां पेइंग गेस्ट के तौर पर रहती थीं।

सरकारी योजना से इन्हें किराए के पैसे भी मिलते थे। दो युवतियों ने बताया कि अश्विनी ने उनसे दुष्कर्म करने की कोशिश की तो दोनों युवतियां उसे थप्पड़ मारकर भाग आईं। उन्होंने पुलिस को बताया कि अश्विनी ने धार की 2 अन्य मूकबधिर युवतियों के साथ दुष्कर्म किया और उन्हें बंधक बना रखा है। पुलिस ने अश्विनी के हॉस्टल में बंधक दो युवतियों को छुड़ाया और उसके खिलाफ मामला दर्ज किया। अश्विनी ने भोपाल के अवधपुरी क्षेत्र में क्रिस्टल आइडियल सोसाइटी सहित कई कॉलोनियों में 5 से ज्यादा डुपलेक्स ले रखे थे। इसमें एक डुपलेक्स पुलिस अधिकारी का भी है। कॉलोनी में रहने वाली एक महिला ने बताया कि वह शाम ढलते ही कार से आता था। उसके साथ लड़कियां होती थीं। 

झूठ बोलकर चंगुल से छुड़ाया
शिक्षक ज्ञानेंद्र पुरोहित ने भोपाल डीआईजी और धार एसपी से संपर्क कर युवतियों को इंदौर बुलाया। अश्विनी को यह बताया गया कि युवतियों के परिवार में किसी की मौत हो गई है। दोनों 5 अगस्त को धार और 7 अगस्त को इंदौर पहुंची। एक युवती ने इशारों में पूरी बात पुलिस को बताई। उन्होंने बताया कि अश्विनी एक साल से उनसे ज्यादती और मारपीट कर रहा है। आईजी इंटेलीजेंस मकरंद देउस्कर ने बताया कि अश्विनी शर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया है और उससे पूछताछ की जा रही है। बताया जाता है कि अश्विनी इटारसी का रहने वाला है। वह पहले कैटरिंग का काम करता था, बाद में उसने गर्ल्स हॉस्टल शुरू कर दिया। 


सच छिपा रही पुलिस: कांग्रेस
प्रदेश कांग्रेस मीडिया प्रभारी शोभा ओझा ने आरोप लगाया है कि पुलिस इस मामले में सच छिपाने की कोशिश कर रही है। सरकार अश्विनी शर्मा पर मेहरबान है। पीड़ित युवतियों ने समाज कल्याण विभाग में पहले भी शिकायत की, लेकिन सुनवाई नहीं हुई। उन्होंने बाकि छात्रावासों की भी जांच कराने की मांग की है।

पता नहीं चल पाता कहां बैठा है वहशी: मुख्यमंत्री
इस मामले पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने डीजीपी ऋषी कुमार शुक्ला के साथ बैठक की। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ऐसी घटना से मन व्यथित हो गया है। आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने अनाथालय के नियमित मॉनिटरिंग के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अब लड़कियों के हॉस्टलों की हर महीने नियमित जांच की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा हम संस्थाओं को यह सोचकर अनुदान देते हैं कि सब अच्छा चल रहा है, लेकिन हमें पता ही नहीं चलता की कौन वहशी कहां बैठा हुआ है। उन्होंने कहा कि अब अनाथालय अब केवल संस्था के भरोसे नहीं चलेंगे, साथ ही प्राइवेट हॉस्टल के लिए भी नियम बनाए जाएंगे।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

app-download