comScore

दो विभागों की मंजूरी के लिए अटका अजनी इंटर मॉडल स्टेशन, करना होगा और इंतजार

दो विभागों की मंजूरी के लिए अटका अजनी इंटर मॉडल स्टेशन, करना होगा और इंतजार

डिजिटल डेस्क, नागपुर । मध्य रेलवे  नागपुर मंडल का नागपुर स्टेशन सबसे महत्वपूर्ण स्टेशन है। इसके साथ ही अजनी भी महत्वपूर्ण स्टेशन है। अजनी स्टेशन को इंटर मॉडल स्टेशन बनाने की तर्ज पर कार्य किया जाएगा। यहां एक ही स्थान से शहरवासियों और रेलवे से आने वाले यात्रियों को मेट्रो सुविधा, बस, टैक्सी सुविधा मिल सकेगी। इस इंटर मॉडल स्टेशन के लिए रेल लैंड डेवलपमेंट अथॉरिटी और एनएचएआई भी एमओयू साइन किया। इसके साथ ही अजनी रेलवे स्टेशन के पीछे की जमीन पर भी इमारतों का निर्माण कर वहां ऑफिस और कर्मशियल उपयोग के लिए रखा जाएगा। इसमें एक दिन में 3 लाख यात्रियों की क्षमता है। इसके लिए जून 2018 में स्टेट इनवॉयरमेंट इंपैक्ट असेसमेंट अथॉरिटी से अब तक इनवॉयरमेंटल क्लीयरेंस ही नहीं मिल पाया है। एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर ने विभाग अधिकारी से तारीख देने की बात की थी जो दिवाली के बाद देने की बात कही गई थी।

इस तरह बनने वाला था इंटर मॉडल स्टेशन
इस इंटर मॉडल स्टेशन के पीछे ही कमर्शियल उपयोग के लिए भी इमारतें बनाई जाएंगी। साथ ही इसमें रेलवे के भी क्वार्टर और ऑफिस सहित हेल्थ सेंटर, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, जोन 4 डीसीपी ऑफिस भी लगभग 70 करोड़ में बनेगा। इसके साथ ही पर्यावरण की दृष्टि से रेल वॉटर हार्वेस्टिंग और सोलर पैनल का उपयोग होगा। 

अजनी स्टेशन पर कार्य 
रेलवे टर्मिनल में अजनी रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 7 का निर्माण किया जाएगा, जहां पर एस्केलेटर और लिफ्ट लगाई जाएगी। इसके साथ ही स्टेशन से  आईएमएस की कोर बिल्डिंग तक 3 फीट ओवरब्रिज तैयार किए जाएंगे। इसमें दो ब्रिज 10 मीटर चौड़ाई के रहेंगे और एक ब्रिज 30 मीटर चौड़ा रहेगा। रेलवे स्टेशन बिल्डिंग का भी रिनाेवेशन किया जाएगा। आईएमएस के कोर और रेलवे के बीच में भविष्य में होने वाले विकास के लिए 270 मीटर की जगह भी छोड़ी जाएगी।

परमिशन नहीं मिलने के कारण अटका हुआ है कार्य
इस निर्माण कार्य में जेल की भी जमीन का उपयोग होने वाला था, जिसके कारण कार्य रुके जाने की जानकारी सामने आ रही थी, लेकिन पहले फेज में केवल रेलवे की जमीन पर कार्य होना है उसके लिए वन, पर्यावरण मंत्रालय और स्टेट इनवॉयरमेंट इंपैक्ट असेसमेंट अथॉरिटी (एसईआईएए) की ही मंजूरी नहीं मिली है, जिसके कारण कार्य अटका हुआ है। 

16 और 19 माह बाद भी अनुमति नहीं
इसके फेज वन के कार्य के लिए परमिशन और अप्रूवल भेज दिए गए हैं, लेकिन कुछ विभागों से अभी तक अप्रूवल नहीं मिल पाया है, जिसके कारण कार्य शुरू नहीं हो पा रहा है। इसमें एनवॉयरमेंट क्लीयरेंस के लिए स्टेट इनवॉयरमेंट इंपैक्ट असेसमेंट अथॉरिटी (एसईआईएए) को 19 जून 2018 को प्रपोजल भेजा था। प्रपोजल भेजने के 16 महीने बाद भी अभी तक अप्रूवल नहीं मिल पाया है।

अप्रूवल के लिए एनएचएआई के अधिकारी लगातार कोशिश कर रहे हैं, लेकिन अभी तक एसईआईएए ने तारीख नहीं दी है। अब कुछ समय पहले विभाग के मेंबर सेक्रेटरी से बात करने पर उन्होंने दिवाली के बाद तारीख देने की बात की थी। रेलवे की जमीन पर कई पेड़ भी हैं जिन्हें काटने के लिए एमओईएफ वन, पर्यावरण मंत्रालय से भी अप्रूवल नहीं मिल पाया है। इसके लिए एनएचएआई ने 31 मार्च 2018 को अप्रूवल भेजा था, लेकिन वह भी अभी तक मंजूर नहीं हो पाया। इसे भी 19 माह हो चुके हैं।

बस सुविधा के लिए
ग्राउंड फ्लोर -   टिकट ऑफिस, काउंटर, शौचालय, 1600 लोगों के लिए वेटिंग एरिया, क्लोक रूम, स्टाॅफ रूम, मेंटेनेंस रूम, रेवेन्यू ऑफिस, कैंटीन 
रेलवे सुविधा के लिए
ग्राउंड फ्लोर :  स्टाॅफ ऑफिस, वीआईपी रूम, पार्सल रूम, पार्सल स्टोरेज, कंट्रोल रूम, 6 रेलवे और 6 बसों के लिए 35 वर्ग मीटर की 12 रिटेल दुकानें, 350 कवर की हुई कार पार्किंग 
फर्स्ट फ्लोर : डोरमिटरीज टिकट ऑफिस, टिकट काउंटर, शौचालय, वेटिंग रूम (1600 लोग), वीआईपी रूम, 10 रिटेल दुकान 
सेकंड फ्लाेर : टिकट ऑफिस, फूड कोर्ट, रेस्टोरेंट और लाउंज
दिवाली के बाद तारीख 

देने की हुई बात
वन एवं पर्यावरण मंत्रालय से पेड़ कटाई के संबंध में अप्रूवल और एसईआईएए से इनवॉयरमेंटल क्लीयरेंस के संबंध में अप्रूवल नहीं मिला है अप्रूवल के लिए दिवाली के बाद की तारीख देने की बात हुई है। अब तारीख मिलते ही अप्रूवल मिल जाएगा।
-अभिजीत जिचकार, प्रोजेक्ट डायरेक्टर
 

कमेंट करें
Yij8A