comScore
Dainik Bhaskar Hindi

अमिताभ ने ट्विटर पर शेयर की फिल्म 'नमक हराम' ये फोटो, जानिए क्या है इसमें खास

BhaskarHindi.com | Last Modified - November 23rd, 2017 19:14 IST

2.2k
0
0

डिजिटल डेस्क, मुबंई। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन रोजना ही कुछ न कुछ अपने ट्विटर पेज पर शेयर करते रहते हैं। बीते दिन उन्होंने अपनी एक फिल्म 'नमक हराम' की एक फोटो शेयर करते हुए कुछ पुरानी यादें साझा की है। अमिताभ ने जो फोटो शेयर की है उसमें लिखा है कि उनके हाथ में यह जो चीज है पहला बॉलीवुड वीडियो कैमरा है। यह राजेश खन्ना का पर्सनल कैमरा था, हृषिकेश मुखर्जी को जब ये पता चला तो उन्होंने फिल्म में एक सीन में इस कैमरे को दिखाने का फैसला किया। 

बता दें कि फिल्म ‘नमक हराम’ 1973 में आई थी, इस फिल्म का निर्देशन हृषिकेश मुखर्जी ने किया था। कहा जाता है कि उस समय अमिताभ बच्चन उतने बड़े स्टार नहीं थे जितने कि राजेश खन्ना थे। अमिताभ और राजेश खन्ना इससे पहले फिल्म आनंद में एक साथ काम कर चुके थे। दोनों ही फिल्मों में लीड भूमिका में राजेश खन्ना ने निभाई थी। खास बात कि इस फिल्म के बाद राजेश खन्ना और अमिताभ फिर कभी साथ नजर नहीं आए।

‘नमक हराम’ के बाद राजेश खन्ना अपना स्टारडम खोने लगे थे, वहीं अमिताभ बच्चन का सितारा बॉलीवुड में बुलंद होने लगा था। इंडस्ट्र को एक नया सुपरस्टार मिल गया था। कहा जाता है कि फिल्म ‘नमक हराम’ की शूटिंग के दौरान ही राजेश खन्ना अमिताभ बच्चन के सामने खुद को असहज महसूस करने लगे थे। दरअसल, हृषिकेश मुखर्जी ने फिल्म ‘नमक हराम’ के क्लाइमेक्स सीन को सभी से छिपाया हुआ था। 

हालांकि राजेश खन्ना ने कई बार इस बारे में हृषिकेश मुखर्जी से पछा कि क्लाइमेक्स क्या है, लेकिन हृषिकेश दा ने उन्हें नहीं बताया। राजेश खन्ना भी बिना क्लाइमेक्स जाने कहां चुप रहने वाले थे, जब उन्हें फिल्म के क्लाइमेक्स का पता चला तो उनके होश उड़ गए। फिल्म के अंत में अमिताभ बच्चन की मौत हो जाती है। राजेश खन्ना यह अच्छी तरह जानते थे कि इस तरह के क्लाइमेक्स को पब्लिक बहुत ज्यादा पसंद करती है। फिल्म का हीरो पब्लिक उसे ही मान लेती है।

जिसके बाद राजेश खन्ना ने हृषिकेश मुखर्जी से अमिताभ के बदले खुद की मौत का दबाब बनाया। चूंकि राजेश खन्ना उस समय सुपरस्टार थे कोई भी डायरेक्टर आसानी से मना नहीं कर सकता था। जब इस बात की जानकारी अमिताभ को पता चली तो वे राजेश खन्ना और हृषिकेश मुखर्जी से खफा हो गए। अमिताभ बच्चन ने मुखर्जी को राजेश खन्ना के खिलाफ धीरे-धीरे भड़काना शुरू किया और फिल्म में कुछ बदलाव करा लिए। जिसकी जानकारी राजेश खन्ना को नहीं हुई।

फिल्म के अंत में राजेश खन्ना की मौत हो जाती है, इसके बाद अमिताभ उनकी मौत का बदला लेते हैं। फिल्म रिलीज होने के बाद दर्शकों ने अमिताभ बच्चन की एक्टिंग पसंद आती है। राजेश खन्ना को यह बात बिल्कुल पसंद नहीं आती है कि उनके क्रेडित कोई और ले गया। इसके बाद उन्होंने तय कर लिया कि आज के बाद वे अमिताभ बच्चन के साथ कोई भी फिल्म नहीं करेंगे। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर