•  13°C  Clear
Dainik Bhaskar Hindi

Home » City » 'Antara' And 'Chhaya' will stop Population, scheme Start in district

'अंतरा' और 'छाया' रोकेगी पॉपुलेशन, जिला अस्पताल में योजना का शुभारंभ 

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 10th, 2017 09:08 IST

'अंतरा' और 'छाया' रोकेगी पॉपुलेशन, जिला अस्पताल में योजना का शुभारंभ 

डिजिटल डेस्क,छिंदवाड़ा। जनसंख्या नियंत्रण के लिए अब महिलाओं को शरीर पर दुष्प्रभाव डालने वाली गर्भ निरोधक गोलियां नहीं लेनी पड़ेगी। साथ ही कॉपर टी से भी छुटकारा मिल सकेगा। जिला स्वास्थ्य विभाग ने शनिवार को जनसंख्या नियंत्रण एवं बच्चों में पर्याप्त अंतराल के लिए अंतरा इंजेक्शन एवं छाया टेबलेट का विविधत शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कांता ठाकुर, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जेएस गोगिया, आरएमओ डॉ. सुशील दुबे एवं महिला चिकित्सक मौजूद रही। 

इस दौरान CMHO डॉ. गोगिया ने बताया कि केंद्र सरकार एवं प्रदेश सरकार ने अंतरा एवं छाया योजना शुरू की है। अंतरा इंजेक्शन एक बार लगाने से तीन माह तक गर्भ निरोधक का काम करेगा। वहीं छाया टेबलेट सप्ताह में एक लेनी होगी। जिससे महिलाओं को शारीरिक दुष्प्रभाव नहीं पड़ेगा तथा बाजार से महंगी दवाईयां खरीदने से भी छुटकारा मिलेगा। योजना के शुभारंभ  पर जिला पंचायत अध्यक्ष कांता ठाकुर ने कहा कि अंतरा व छाया का फायदा महिलाओं को मिलने वाला है। जिससे महिलाओं के स्वस्थ्य के साथ आर्थिक नुकसान से भी बचाया जा सकेगा। 

नसबंदी नहीं कराने वालों को लाभ
अंतरा इंजेक्शन व छाया गोली का सर्वाधिक फायदा नसबंदी न कराने वालों को मिलेगा। नसबंदी न कराने वाली महिलाओं को कई बार अनचाहे गर्भ का सामना करना पड़ता है। ऐसे में एक अंतरा इजेक्शन तीन माह एवं सप्ताह में दो गोली लेनी होगी। वह भी तीन माह तक इसके बाद प्रत्येक सप्ताह एक गोली ही गर्भनिरोधक का काम करेगी। छाया पिल चिकित्सा विभाग की ओर से नि:शुल्क वितरित की जाएगी। इसके लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहयोगिनियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके साथ ही जिले के प्रत्येक स्वास्थ्य केंद्र पर अंतरा एवं छाया मौजूद रहेगी।

loading...
Similar News
अंतरा और छाया योजनाएं रोकेगी बढ़ती हुई आबादी

अंतरा और छाया योजनाएं रोकेगी बढ़ती हुई आबादी

गरीब मरीजों के नि:शुल्क इलाज के लिए खुले निजी अस्पतालों के द्वार

गरीब मरीजों के नि:शुल्क इलाज के लिए खुले निजी अस्पतालों के द्वार

नाशिक के नवजात बच्चों की मौत के मामले में कठोर नियमावली : स्वास्थ्य मंत्री

नाशिक के नवजात बच्चों की मौत के मामले में कठोर नियमावली : स्वास्थ्य मंत्री

MP : प्रदेश के एकमात्र आयुर्वेद अस्पताल में नहीं हैं दवाईयां, भटक रहे मरीज

MP : प्रदेश के एकमात्र आयुर्वेद अस्पताल में नहीं हैं दवाईयां, भटक रहे मरीज

शर्मनाक : लड़ते रहे डॉक्टर, चली गई नवजात की जान, देखिए Video

शर्मनाक : लड़ते रहे डॉक्टर, चली गई नवजात की जान, देखिए Video

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

FOLLOW US ON