comScore

त्रिपुरा में फिर हुई पत्रकार की हत्या, बहस के बाद सैनिक ने मारी गोली

November 21st, 2017 21:01 IST
त्रिपुरा में फिर हुई पत्रकार की हत्या, बहस के बाद सैनिक ने मारी गोली

डिजिटल डेस्क, अगरतला। त्रिपुरा में एक और पत्रकार की हत्या हो गई है। यहां सेना के जवान ने बांग्ला अखबार स्यंदन पत्रिका के पत्रकार सुदीप दत्त भौमिक को गोली मार दी है। फिलहाल जवान को गिरफ्तार कर लिया गया है।

घटना अगरतला से 20 किलोमीटर दूर आरके नगर की है। अगरतला के अखबार स्यंदन पत्रिका के संपादक सुबल डे ने बताया, 'सुदीप दत्त भौमिक अपाइंटमेंट लेकर 2nd त्रिपुरा स्टेट राइफल्स (टीएसआर) के कमांडेंट से मुलाकात करने के लिए आरके नगर गए थे। वहां कमांडेंट के दफ्तर के बाहर किसी बात पर उनकी कमांडेंट के सुरक्षा गार्ड से बहस हो गई। सुरक्षा गार्ड ने उन पर गोली चला दी, और सुदीप की मौके पर ही मौत हो गई।'

गोली चलाने वाले सुरक्षा गार्ड की पहचान 2nd टीएसआर कमांडेंट के PSO नंदगोपाल रियांग के रूप में हुई है। पुलिस ने मामला दर्ज कर नंदगोपाल को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं सुदीप दत्त भौमिक का शव अगरतला लाया जा चुका है।

दो महीने में दो पत्रकारों की हत्या

त्रिपुरा में यह दो महीनों के अंदर दूसरी घटना है, जिसमें पत्रकार को निशाना बनाया गया है। ताजा घटना से पहले पश्चिम त्रिपुरा जिले में 20 सितंबर को पत्रकार शांतनु भौमिक की हत्या कर दी गई थी। एक स्थानीय न्यूज चैनल में रिपोर्टर के तौर पर काम करने वाले शांतनु जब इंडीजेनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) और माकपा की जनजातीय शाखा त्रिपुरा राज्येर उपजाति गणमुक्ति परिषद के बीच मंडाई में हुई एक झड़प को कवर रहे थे, तो उन पर पीछे से हमला किया गया और उन्हें अगवा कर लिया गया, बाद में शांतनु बुरी तरह जख्मी हालत में मिले। उनके शरीर पर चाकुओं से दिए गए जख्म के निशान थे। उन्हें अगरतला मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

शांतनु की हत्या के मामले में पुलिस ने तुरंत मुख्य आरोपी सचिन देब वर्मा सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया था। सचिन नेशनल लिबरेशन फ्रंट ऑफ त्रिपुरा का सदस्य रहा है। वर्तमान में एक जनजातीय संगठन इंडीजीनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) का सदस्य है।

कमेंट करें
GlMNb