comScore

अरुण जेटली की हालत बेहद नाजुक, एम्स में ECMO और IABP सपोर्ट पर


हाईलाइट

  • जेटली से मिलने वालों का लगा तांता
  • नीतीश कुमार और मायावती भी पहुंचे
  • राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी पहुंचे

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत बेहद नाजुक बनी हुई है, पक्ष और विपक्ष के नेताओं का दिल्ली के एम्स में आना-जाना लगा हुआ है। एम्स के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक कार्डियो-न्यूरो सेंटर में अरुण जेटली की हालत नाजुक बनी हुई है, उन्हें एक्स्ट्राकोर्पोरियल मेंब्रेन ऑक्सिजनेशन (ECMO) और इंट्रा-एओर्टिक बैलून पंप (IABP) सपोर्ट दिया जा रहा है।

पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के दिग्गज नेता अरुण जेटली की हालत नाजुक है, वह दिल्ली के ऑल इंडिया मेडिकल साइंस (एम्स) अस्पताल में भर्ती हैं, उनसे मिलने के लिए नेताओं का तांता लगा हुआ है, केंद्रीय मंत्रियों के अलावा विपक्षी पार्टियों के नेता भी उनका हालचाल जानने आ रहे हैं। आज (रविवार) जेटली से मिलने के लिए संघ प्रमुख मोहन भागवत और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पहुंचे थे। अरुण जेटली को लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है। अरविंद केजरीवाल ने अरुण जेटली के परिजनों से हाल-चाल लिया। 

विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने ट्वीट किया, 'देश के प्रख्यात विधिवेत्ता, राजनेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रभु से कामना करते हैं.'

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, पीयूष गोयल, स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन सिंह, जितेंद्र सिंह, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और बसपा चीफ मायावती भी दिल्ली एम्स पहुंचकर उनके स्वास्थ्य की जानकारी ले चुकी हैं। गृहमंत्री अमित शाह के अलावा यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ भी शुक्रवार को जेटली का हाल जानने पहुंचे थे। विपक्ष की नेता मायावती जेटली को देखने बसपा के दिग्गज नेता सतीश चंद्र मिश्रा के साथ पहुंचे थे। 

जेटली से मिलने के बाद मायावती ने पूर्व केंद्रीय मंत्री के जल्द स्वस्थ्य होने की कामना की है, उन्होंने ट्वीट कर कहा कि अरुण जेटली के स्वास्थ्य का हालचाल लेने आज नई दिल्ली के एम्स अस्पताल गई, वहां उनके परिवार के लोगों से मुलाकात भी की, प्रार्थना है कि वे अरुण जेटली को जल्द से जल्द ठीक करें। 
 
शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी जेटली का हालचाल जानने एम्स पहुंचे थे। इससे पहले 9 अगस्त को भी जेटली को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था, उस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला समेत बीजेपी के कई दिग्गज नेता जेटली को देखने पहुंचे थे। 

दरअसल, मई 2018 में जेटली का किडनी प्रत्यारोपण हुआ था, इसके बाद जेटली के बाएं पैर में सॉफ्ट टिशू कैंसर हो गया, जिसकी सर्जरी के लिए वह इस साल की शुरुआत में अमेरिका भी गए थे, तबीयत खराब होने के कारण ही उन्होंने 2019 का आम चुनाव नहीं लड़ा था और मंत्रिमंडल में शामिल होने से भी इनकार कर दिया था।

कमेंट करें
6O7Nn