comScore

आसाराम की ऑडियो क्लिप वायरल, बोला- थोड़े समय रहेगा जेल में... अच्छे दिन आएंगे

April 28th, 2018 17:36 IST
आसाराम की ऑडियो क्लिप वायरल, बोला- थोड़े समय रहेगा जेल में... अच्छे दिन आएंगे

डिजिटल डेस्क, जोधपुर। नाबालिग लड़की से रेप के मामले में जोधपुर की जेल में सजा काट रहे आसाराम का एक कथित ऑडियो क्लिप वायरल हुआ है। इस क्लिप में एक व्यक्ति को आसाराम ये कहते हुए सुनाई दे रहा है कि जेल में वह थोड़े समय रहेगा और ‘अच्छे दिन आएंगे।’ बताया जा रहा है कि वायरल हुई 15 मिनट की ऑडियो क्लिप शुक्रवार को रिकॉर्ड की गई है, जब आसाराम ने  एक साधक से बात की थी। 

शिल्पी-शरत की रिहाई का करेगा बंदोबस्त
डीआईजी विक्रम सिंह ने कहा, ‘कैदियों को एक महीने में 80 मिनट के लिए उनके द्वारा दिए गए दो नंबरों पर फोन करने की अनुमति दी जाती है। उसने शुक्रवार को शाम साढे़ छह बजे साबरमती आश्रम के एक ‘साधक’ से बात की। हो सकता है कि तब यह बातचीत रिकॉर्ड की गई हो और बाद में इसे वायरल कर दिया गया . आडियो क्लिप में आसाराम कह रहा है, ‘हमें कानून एवं व्यवस्था का सम्मान करना चाहिए। मैंने भी यही किया।’ आसाराम ने कहा, ‘ऐसे उकसाने वाली बातों या आश्रम के लेटर हेड पर जो कुछ भी लिखा जा रहा है उससे बहक ना जाए।’ वहीं सह आरोपी शिल्पी और शरत का जिक्र करते हुए आसाराम ने कहा कि वह जेल से सबसे पहले उनकी रिहाई का बंदोबस्त करेगा क्योंकि यह ‘माता-पिता का कर्तव्य है कि वे पहले अपने बच्चों के बारे में सोचें।’

सच छिपता नहीं, झूठ के पैर नहीं होते
आसाराम ने कहा, ‘अगर शिल्पी और शरत की रिहाई के लिए और वकीलों की जरूरत पड़ी तो वो भी किया जाएगा। इसके बाद बापू जेल से बाहर आएगा।’ उसने कहा , ‘अगर निचली अदालत में कोई गलती हुई है तो उसे सुधारने के लिए ऊपरी अदालतें हैं।’ आसाराम ने कहा, ‘सच छिपता नहीं है और झूठ के पैर नहीं होते। जो भी आरोप हैं वे फालतू हैं।’ बातचीत के अंत में वह शरत से बात करने के लिए कहता है तो बोलता है कि जेल में चिंता की कोई बात नहीं है। 

आसाराम को मिली है आजीवन कारावास की सजा
बता दें कि नाबालिग से दुष्कर्म के आरोप में अदालत ने आसाराम को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। आसाराम के अलावा शिल्पी और शरतचंद्र को भी दोषी करार देते हुए 20-20 साल की जेल की सजा सुनाई गई है। आसाराम पर आरोप था कि 15 और 16 अगस्त 2013 की दरम्यानी रात जोधपुर के एक फार्म हाउस में आसाराम ने इलाज के बहाने उसका दुष्कर्म किया था। इस कांड को आसाराम ने अकेले नहीं बल्कि कई लोगों ने मिलकर अंजाम दिया था। पीड़िता ने दिल्ली के कमलानगर थाने में 19 अगस्त 2013 को आसाराम सहित इन सभी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी।

कमेंट करें
nsov7