comScore
Dainik Bhaskar Hindi

#Champions Trophy कंगारू पेस बैटरी कल होगी कीवी की सबसे बड़ी चुनौती

BhaskarHindi.com | Last Modified - July 27th, 2017 14:29 IST

1.1k
0
0
#Champions Trophy कंगारू पेस बैटरी कल होगी कीवी की सबसे बड़ी चुनौती

टीम डिजिटल, बर्मिंघम. चैंपियंस ट्रॉफी में न्यूजीलैंड के खिलाफ शुक्रवार को कंगारू टीम यहां अपनी पेस बैटरी का भरपूर इस्‍तेमाल कर जीत से मुकाबले का आगाज करने की कोशिश करेगी. ऑस्ट्रेलियाई पेस बैटरी में जोश हेजलवुड, पैट कमिन्स, मिशेल स्टार्क और जेम्स पैटिनसन हैं. हेजलवुड, कमिन्स, स्टार्क और पैटिनसन की चौकड़ी से ऑस्ट्रेलिया को उसी तरह की सफलता की उम्मीद है जैसे 1970 के दशक में एंडी राबर्ट्स, माइकल होल्डिंग, कोलिन क्राफ्ट और जोएल गार्नर ने वेस्टइंडीज को दिलायी थी.

उधर वॉर्म अप मैच में मार्टिन गुप्टिल, कप्तान विलियमसन और आलराउंडर कोरी एंडरसन की शानदार पारियों से श्रीलंका पर जीत के बाद कीवी टीम का कॉन्‍फीडेंस बढ़ा हुआ है. न्यूजीलैंड का मुख्य दारोमदार विलियमसन और एंडरसन पर टिका है क्योंकि गुप्टिल और रोस टेलर निरंतर एक जैसा प्रदर्शन करने में नाकाम रहे हैं. श्रीलंका के खिलाफ शतक जड़ने वाले आरोन फिंच जब फार्म में होते हैं तो किसी भी तरह के आक्रमण की धज्जियां उड़ाने का माद्दा रखते हैं. ऑस्ट्रेलिया की बल्लेबाजी भी न्यूजीलैंड की तुलना में मजबूत दिखती है जिसमें डेविड वार्नर और कप्तान स्मिथ जैसे दो धुरंधर बल्लेबाज शामिल हैं. इनके अलावा क्रिस लिन ने हाल में समाप्त हुए आईपीएल में अपने विस्फोटक तेवरों से अवगत कराया जबकि मध्यक्रम में ग्लेन मैक्सवेल जैसा तेजतर्रार बल्लेबाज है.

न्यूजीलैंड टीम अपने मुख्य तेज गेंदबाजों टिम साउथी और ट्रेंट बोल्ट पर निर्भर है. एडम मिल्ने और कोलिन डि ग्रैंडहोम उसकी तेज गेंदबाजी की चौकड़ी को पूरा करते हैं लेकिन उन्हें ऑस्ट्रेलियाई आक्रमण की तरह खौफनाक नहीं माना जा सकता है. एंडरसन और जेम्स नीशाम जैसे आलराउंडर टीम में संतुलन पैदा करते हैं. न्यूजीलैंड हालांकि 2015 वर्ल्‍डकप के लीग चरण में ऑकलैंड में ऑस्ट्रेलिया पर दर्ज की गयी जीत से प्रेरणा लेना चाहेगा. ऑस्ट्रेलिया ने हालांकि तब मेलबर्न में खेले गये फाइनल में इसका बदला चुकता कर दिया था. इन दोनों मैचों में खेलने वाले कई खिलाड़ी कल फिर से आमने सामने होंगे.

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

ई-पेपर