comScore

बिहार: लू-चमकी बुखार से 200 से ज्यादा मौतें, सीएम नीतीश का हवाई सर्वे रद्द


हाईलाइट

  • बिहार में लू और चमकी बुखार का कहर जारी
  • बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का हवाई सर्वेक्षण रद्द

डिजिटल डेस्क, पटना। बिहार में लू और चमकी बुखार (एक्यूट इन्सेफ्लाइटिस सिंड्रोम) की वजह से हो रही मौतों का आंकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। लू और चमकी बुखार की चपेट में आने से अब तक 200 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं स्थितियों का जायजा लेने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज (20 जून) प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे रद्द हो गया है। सीएम नीतीश कुमार गुरुवार को नवादा, गया और औरंगाबाद जिलों के कई जगहों का हवाई सर्वेक्षण करने वाले थे, लेकिन अब वह गया के अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज जाएंगे, यहां लू और गर्मी की वजह से बीमार लोगों का हाल-चाल जानेंगे।

वहीं लोकतांत्रिक जनता दल के नेता शरद यादव ने आज मुजफ्फरपुर में श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल का दौरा किया। बता दें कि, मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से मरने वाले बच्चों की मौत का आंकड़ा बढ़कर 117 तक पहुंच गया है। जबकि पूरे बिहार में चमकी बुखार से 150 से ज्यादा की मौत हो चुकी है।

श्री कृष्‍णा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में 98 बच्चों की मौत हुई है जबकि 19 मौतें केजरीवाल अस्पताल में हुई है। इस जानलेवा बुखार से लगातार हो रही मौतों को लेकर बिहार की नीतीश सरकार और प्रशासन लोगों के निशाने पर है। बुधवार को नीतीश कुमार ने बच्चों की मौतों पर किए गए सवाल पर चुप्पी साध ली थी।

गौरतलब है कि, बुधवार तक मुजफ्फरपुर के श्री कृष्‍णा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (SKMCH) में कुल 93 बच्‍चों की हुई थी। जबकि केजरीवाल अस्‍पताल में 19 बच्‍चों की जान गई। श्री कृष्ण मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक सुनील कुमार शाही ने बुधवार को बताया था, अब तक 372 बच्चों को यहां भर्ती कराया गया, जिनमें से 118 को छुट्टी दे दी गई है, 57 को जल्द ही छुट्टी दे दी जाएगी। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि हमने एईएस के कारण 93 जानें गंवाई है।
 

कमेंट करें
Z960G