comScore
Dainik Bhaskar Hindi

सरहद पार के मेहमानों से गुलजार हुए तालाब 

BhaskarHindi.com | Last Modified - December 04th, 2018 16:53 IST

1.5k
0
0
सरहद पार के मेहमानों से गुलजार हुए तालाब 

डिजिटल डेस्क, पडोली(चंद्रपुर)। इन दिनों विदेशों से आए पंछी पर्यटकों का आकर्षण बने हुए हैं। आवंडा तालाब तो इन आकर्षक मेहमानों से गुलजार हो गया है। इसके अलावा चारगांव डैम, इरई डैम, एश बंड में भी भी मेहमानों के आते ही पक्षीप्रेमी व अध्ययनकर्ताओं का तांता लगा हुआ है।  यूरोपीय देश, लद्दाख, हिमाचल, मंगोलिया, चीन आदि स्थानों से ये विदेशी पंछी यहां आते हैं। इन मेहमान पंछियों में चक्रांग बतक, तरंग बतक, लालसरी बतक, तुतारी, हरी तुतारी, चकतेदार तुतारी आदि प्रमुखता से होते हैं। बर्डस् ऑफ चंद्रपुर के सदस्य डा. हर्षद मटाले इन पंछियों के नियमित अध्ययनकर्ता हैं। उन्होंने बताया कि ये पंछी यहां आते हैं। नियमित रूप से नेस्टिंग व मीटिंग पीरियड के तहत उनका आगमन होता है। मौसम परिवर्तन की स्थिति में वे स्वाभाविक रूप से स्थानांतरण करते हैं। यूरोपीय देशों में इन दिनों बर्फ गिरती है। इसी से  बचने के लिए पंछी स्थानांतरण करते  हैं। इधर भारत जैसे देशों में ठंड तो रहती है परंतु हिमाालय व कश्मीर जैसे प्रदेशों को छोड़ दिया जाए तो अन्य कहीं पर भी बर्फबारी नहीं होती। 4 माह तक का यहां मौसम ठंडा रहता है  इसलिए वे यहां सुरक्षित रहते हैं। इनके दाना-पानी का प्रबंध जलजन्य स्थानों पर आसानी से हो जाता है। एम.एस.आर. शाद, यशोधन वडकर, प्रशांत मोरे और सालवे आदि पक्षीमित्रों की टीम अध्ययन में जुटी है। दो दिनों तक उन्होंने जलजन्य स्थानों का दौरा कर छायाचित्र इकठ्ठा कर जानकारी जुटाने का काम किया है।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें