comScore
Dainik Bhaskar Hindi

बर्थडे स्पेशल: 64 के हुए अप्पू राजा, राजनीति में खेल रहे नई पारी

BhaskarHindi.com | Last Modified - November 07th, 2018 13:10 IST

360
0
0
बर्थडे स्पेशल: 64 के हुए अप्पू राजा, राजनीति में खेल रहे नई पारी

डिजिटल डेस्क । अभिनेता और नेता कमल हासन का जन्‍म 7 नवंबर 1954 हो हुआ था। आज कमल हासन अपना 64वां जन्मदिन मना रहे हैं।हासन ने सिनेमा जगत में एक लंबी पारी खेलते हुए तमिल और हिंदी सिनेमा में कई यादगार फिल्‍में दी है। उन्हें भारत के मौजूदा सुपरस्टार्स में सबसे काबिल अभिनेता कहा जाता है।बता दें हासन ने मात्र 5 साल उम्र में तमिल फिल्‍म 'कलातुर कन्नम्मा' में काम किया था, जिसके लिए उन्‍हें राष्‍ट्रपति से गोल्‍ड मेडल मिला था। इसके बाद हासन की प्रतिभा ने जो चमक बिखेरी वो आज भी बरकरार है।

कैसा रहा फिल्मी करियर


कमल हासन ने दुनियाभर में अपने किरदारों को लेकर कई प्रयोग किए, ना तो वे किसी क्षेत्र में बंधे न भाषा में। हिंदी सिनेमा में उनकी फिल्‍में 'एक दूजे के लिए', 'सदमा' और 'सागर' में उनकी अदाकारी आज भी लोग नहीं भूले हैं। 1980-90 के तक के दशक में भारतीय सिनेमा एक लीक पर चल रहा था. इसमें ताजगी लाने का श्रेय अभिनेता कमल हासन को जाता है. कमल हासन 'पुष्‍पक' जैसी साइलेंट फिल्‍म लेकर आए। 131 मिनट की इस फिल्‍म में एक भी डॉयलॉग नहीं था। इसके बाद वे फिल्‍म 'अप्‍पू राजा' में वो बौने के किरदार में नजर आए।

फिल्म 'नायकन' में उन्‍होंने गैंगस्टर के रूप में एक पति, पिता, दोस्त और फिर बूढ़ा होने तक की भूमिका को संजीदगी से जिया। 'नायकन' की कहानी और कमल हासन की अदायगी ने हिंदी फिल्म निर्माताओं को ऐसा झकझोरा कि उन्हें 'नायकन' की कहानी पर दयावान नाम से हिंदी फिल्म बनाई। फिल्‍म 'चाची 420' में उनके महिला के किरदार को बेहद पसंद किया गया. इसके बाद वे लोगों के बीच सबसे प्‍यारी चाची के तौर फेमस हो गये. कमल हासन रूके नहीं, इसके बाद वे 'दशावतारम' में 10 रूपों के साथ पर्दे पर दिखे। साल 2008 में रिलीज हुई फिल्म 'दशावतारम' के 10 किरदारों में उन्होंने अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज बुश का भी रोल निभाया। कमल हासन की फिल्म 'अभय' से प्रेरणा लेने की बात दुनिया भर में मशहूर डायरेक्टर क्वांटीन टेरंटीनो कह चुके हैं। 'अपूर्वा रागानगल' के लिए कमल हासन को सर्वश्रेष्ठ तमिल अभिनेता का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला था।

साल 1981 में बालाचंदर की फिल्म 'एक दूजे के लिए' के साथ कमल ने हिंदी फिल्मों में कदम रखा। 'एक दूजे के लिए' के बाद उन्‍होंने 'सदमा', 'ये तो कमाल हो गया' और 'जरा सी जिंदगी' में काम किया जिसके बाद हिंदी सिनेमा में उनकी पहचान और पुख्ता हो गई। 1984 में आई मल्टीस्टारर फिल्म 'राजतिलक' और 1985 में आई 'सागर' ने उन्हें हिंदी सिनेमा में एक स्टार का दर्जा दिला दिया।

मिले कई सम्मान

कमल हासन फिल्म जगत के इकलौते ऐसे हीरो हैं जिन्हें एक ही फिल्म के लिए बेस्ट एक्टर और बेस्ट सपोर्टिंग हीरो के लिए नॉमिनेशन मिला हो। 1985 में कमल की बॉलीवुड फिल्म 'सागर' आई थी, जिसके लिए कमल हासन को एक साथ दो फिल्म फेयर अवॉर्ड्स के लिए नॉमिनेट किया गया। ऐसा नॉमिनेशन पाने वाले कमल हासन अकेले कलाकार हैं। कमल हासन की खुद की फिल्म निर्माण कंपनी राजकमल इंटरनेशनल है। बता दें कि कमल हासन की 8 फिल्में विदेशी भाषा की श्रेणी में ऑस्कर के लिए नॉमिनेट हुईं हैं।

पद्मश्री से सम्‍मानित हो चुके कमल हासन, भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे अधिक सम्मान पाने वाले अभिनेता हैं। उनके नाम 4 राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, 3 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार तथा 1 सर्वश्रेष्ठ बाल कलाकार पाने वाले अभिनेता होने का रिकॉर्ड दर्ज है। इसके अलावा कमल हासन, पांच भाषाओं में रिकॉर्ड उन्नीस फिल्मफेयर पुरस्कार पा चुके हैं। साल 2000 में नवीनतम पुरस्कार के बाद, संगठन से ख़ुद को पुरस्कारों से मुक्त रखने का आग्रह किया।


साल 1975 में नाटकीय फ़िल्म 'अपूर्व रागंगल' से कमल को एक नई पहचान मिली, इस फिल्म में उन्होंने एक बड़ी उम्र वाली महिला के साथ प्यार करने वाले युवक की भूमिका निभाई थी। इसके बाद 1982 में फिल्म 'मून्राम पिरइ' के लिए कमल को पहली बार भारतीय राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला। मणि रत्नम की 1987 में आई फिल्म 'गॉड-फादरनुमा नायकन' में विशेष रूप से उनके अभिनय की सराहना की गई। इस फिल्म को टाइम पत्रिका ने सदाबहार सर्वश्रेष्ठ फिल्मों में से एक होने का दर्जा दिया। उन्हें कराटे और भरतनाट्यम में महारत है। 1986 में सर्वश्रेष्ठ विदेशी भाषा फिल्म के लिए भी अकादमी पुरस्कार के लिए कमल हासन ने भारत का रिप्रेजेंट किया।

अपने बयानों से रहते हैं चर्चा में

कमल हासन के बारे में कहा जाता है कि वे अपनी हर फिल्म से पहले किसी न किसी कंट्रोवर्सी का शिकार हो जाते हैं या फिर कमल ऐसा कोई बयान दे देते हैं जो मीडिया के लिए खबर बन जाता है। इन दिनों वे हिंदू आतंकवाद को लेकर दिए अपने बयान को लेकर ट्रोल किए जा रहे हैं। कमल हासन इन दिनों अपनी राजनीतिक पारी को लेकर सुर्खियों में हैं। पिछले साल उनकी लॉन्ग टाइम लिव इन पार्टनर गौतमी के साथ उनका ब्रेक अप हो गया था और इस बार उन्होंने अपनी खुद की पॉलिटिकल पार्टी बनाने की घोषणा कर दी है। कमल हासन ने कहा कि वह राजनीति में आने को तैयार हैं और CM बनने के लिए भी तैयार हैं।

रजनीकांत को बनाया हीरो

साउथ के सुपरस्टार रजनीकांत जब फिल्मों में स्ट्रगल कर रहे थे, तब उन्हें लीड हीरो बनाने में कमल ने चुपके से अपनी भूमिका निभाई थी, कहा जाता है कि करियर की शुरुआत में उन्हें या तो फिल्मों में छोटे-मोटे रोल्स मिल रहे थे या फिर कमल हासन स्टारर फिल्मों में सेकंड लीड का रोल, इस बात का एहसास जब रजनीकांत को हुआ तो उन्होंने 1979 फिल्म आई फिल्म 'निनैथाले इन्निकुम' के बाद रजनीकांत के साथ काम करना बंद कर दिया, उन्होंने ऐसा इसलिए किया ताकि रजनीकांत को दूसरी फिल्मों में मुख्य भूमिका मिल सके। शायद आपको जानकारी न हो कि कमल हासन को शंकर की फिल्म एंथिरन (रोबोट) के लिए साइन किया गया था, लेकिन उन्होंने किसी कारण इस फिल्म का ऑफर ठुकरा दिया।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

ई-पेपर