comScore

प्रेम संंबंध उजागर करने की धमकी देकर व्यापारी को किया ब्लैकमेल

प्रेम संंबंध उजागर करने की धमकी देकर व्यापारी को किया ब्लैकमेल

डिजिटल डेस्क, नागपुर। तहसील थानांतर्गत अज्ञात आरोपी द्वारा एक व्यवसायी को प्रेम संबंध सार्वजनिक कर बदनाम करने की धमकी दी गई है। आरोपी उसे ब्लैकमेल कर हफ्ता मांग रहा था। इस मामले में तहसील पुलिस ने सुरेंद्र गेंदमल बाठिया (48)  निकालस मंदिर के पास इतवारी निवासी की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया है। आरोपी का अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है। 

वाट्सएप पर भेजा मैसेज

पुलिस के अनुसार सुरेंद्र बाठिया का साेयाबीन का  व्यवसाय है। इंटरनेट की मदद से नंबर बदलकर  सुरेंद्र के वाट्सएप पर मैसेज किया गया कि उसका 12 वर्ष पहले एक युवती से प्रेम संबंध था। आरोपी ने सुरेंद्र को उसकी पूर्व प्रेमिका के साथ की तस्वीरों को उसके परिवार को दिखाने और सार्वजनिक करने की बार-बार धमकी दे रहा था। आरोपी ने उसे धमकाते हुए अपने खाते में 4 बीट क्वॉइन जमा करने के लिए कहा। वह सुरेंद्र और उस युवती की बदनामी और उनका जीवन बर्बाद करने की धमकी लगातार दे रहा था। सुरेंद्र उसे समझाने की कोशिश कर रहा था, लेकिन वह सुरेंद्र की बात सुनने को तैयार नहीं था। आरोपी ने सुरेंद्र को लगातार मैसेज कर परेशान कर दिया था। सुरेंद्र के कुछ रिश्तेदारों  को तस्वीरें भी भेज दिया था। अंत में परेशान होकर सुरेंद्र ने तहसील थाने में शिकायत कर दी।  पुलिस को संदेह है कि सुरेंद्र की पहचान वाला ही कोई आरोपी उसे ब्लैकमेल कर रहा था, जिसे सुरेंद्र के पुराने प्रेम संबंध के बारे में जानकारी होगी। तहसील पुलिस मामले की जांच कर रही है। 

चोरी की कार में घूमते मिला शातिर चोर

अपराध शाखा पुलिस के दस्ते ने गश्त के दौरान चोरी की कार में घूम रहे आरोपी रूपेश उर्फ डोडो राजू पाली  (31)  धम्मानंद नगर  कामठी रोड निवासी को धरदबोचा। रूपेश ने पूछताछ में बताया कि इस कार को उसने अपने दोस्त राहुल मानिकपुरी के साथ मिलकर अमरावती के फ्रेजरपुरा इलाके से चुराया है। कार का नंबर प्लेट बदलकर वह नागपुर में सैर सपाटे करते हुए पकड़ा गया। पुलिस के अनुसार अपराध शाखा पुलिस विभाग का दस्ता रात को गश्त कर रहा था। इस दौरान दस्ते को पीली नदी चाैक के पास एक युवक संदिग्ध स्थिति में नजर आया।  पुलिस ने आवाज दी तो वह भागने लगा। पुलिस ने उसका पीछा कर धरदबोचा। उससे कार  क्रमांक एम.एच.49 जी.एफ.- 6807 के बारे में पूछताछ करने पर वह टालमटोल जबाब देने लगा। कार की तलाशी लेने पर डिक्की के अंदर  एम.एच.12 जी.एफ.6085 नंबर नजर आया। पुलिस ने रूपेश को अपराध शाखा कार्यालय में ले जाकर पूछताछ की, तो उसने बताया कि कार का असली नंबर एमएच 12 जी एफ - 6085 है। नकली नंबर प्लेट लगाकर वह शहर में घूम रहा था।
 

कमेंट करें
j4VuL