comScore
Dainik Bhaskar Hindi

देना, विजया और बड़ौदा बैंक के मर्जर को कैबिनेट की मंजूरी, बनेगा तीसरा सबसे बड़ा बैंक

BhaskarHindi.com | Last Modified - January 04th, 2019 17:40 IST

2.6k
1
0
देना, विजया और बड़ौदा बैंक के मर्जर को कैबिनेट की मंजूरी, बनेगा तीसरा सबसे बड़ा बैंक

News Highlights

  • बैंक ऑफ बड़ौदा (BOB), विजया बैंक और देना बैंक के मर्जर को केंद्रीय कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है।
  • SBI और ICICI बैंक के बाद बैंक ऑफ बड़ोदा तीसरा सबसे बड़ा बैंक बन जाएगा।
  • ये मर्जर 1 अप्रैल 2019 से अस्तितव में आएगा।


डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। बैंक ऑफ बड़ौदा (BOB), विजया बैंक और देना बैंक के मर्जर को केंद्रीय कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है। बुधवार को केंद्रीय कैबिनेट में लिए गए इस फैसले के बाद स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) और ICICI बैंक के बाद बैंक ऑफ बड़ोदा तीसरा सबसे बड़ा बैंक बन जाएगा। ये मर्जर 1 अप्रैल 2019 से अस्तितव में आएगा। इस मर्जर के बाद विजया बैंक और देना बैंक के कर्मचारियों का ट्रांसफर बैंक ऑफ बड़ोदा में कर दिया जाएगा।

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि भारतीय बैंकिंग के इतिहास में इस तरह का मर्जर पहली बार किया जा रहा है। इस मर्जर के साथ ही बैंक ऑफ बड़ोदा ने अपने शेयर स्वैप रेश्यो को फाइनल कर दिया है। योजना के अनुसार, विजया बैंक के शेयरधारकों को प्रत्येक 1,000 शेयरों के लिए BoB के 402 इक्विटी शेयर मिलेंगे। देना बैंक के मामले में, इसके शेयरधारकों को BoB के प्रत्येक 1,000 शेयरों के लिए 110 शेयर मिलेंगे।

विलय के फायदों की बात करें तो तीसरा बड़ा बैंक बनने के बाद तीनों बैंकों के नेटवर्क्स एक हो जाएंगे, डिपॉजिट्स पर लागत कम होगी और सब्सिडियरीज में सामंजस्य होगा। आर्थिक पैमानों पर यह मजबूत प्रतिस्पर्धी बैंक होगा। तीनों बैंकों को फिनैकल सीबीएस प्लैटफॉर्म पर लाया जाएगा। इतना ही नहीं नए बैंक को पूंजी दी जाएगी।

बैंक ऑफ बड़ौदा की अभी देश में 5502, विजया बैंक की 2129 और देना बैंक की 1858 ब्रांच है। विलय के बाद नए बैंक की 9489 ब्रांच हो जाएंगी। कर्मचारियों की बात करें तो बैंक ऑफ बड़ोदा में 56361, विजय बैंक में 15874 और देना बैंक में 13440 कर्मचारी हैं। यानी नए बैंक में कुल कर्मचारी 85675 हो जाएंगे।

बता दें कि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सिंतबर 2018 में तीनों सरकारी बैंकों के विलय की घोषणा की थी। जेटली ने कहा था कि विजया बैंक, देना बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा का विलय कर देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक अब अस्तित्व में आएगा।

उन्होंने कहा था कि बैंकिंग व्यवस्था को पहले से ज्यादा मजबूत और टिकाऊ बनाने के लिए ये कदम उठाया जा रहा है। वित्त मंत्री ने भरोसा दिलाया था कि विलय के बाद तीनों बैंकों में कार्यरत कर्मचारी किसी भी तरह से प्रभावित नहीं होंगे। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

app-download