comScore
Dainik Bhaskar Hindi

कनाडा PM के साथ खालिस्तानी आतंकी के डिनर का न्योता, सांसद ने मांगी माफी

BhaskarHindi.com | Last Modified - February 22nd, 2018 23:34 IST

1.6k
0
0

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के साथ एक खालिस्तान समर्थक आतंकी के डिनर में शामिल होने के बाद काफी बवाल हुआ था, जिसे लेकर ट्रूडो के सांसद ने माफी मांगी है। दरअसल, जस्टिन ट्रूडो के लिए आयोजित डिनर में एक खालिस्तान समर्थक आतंकी को आमंत्रित किया गया था। इसे कोई और नहीं बल्कि कनाडा के ही एक सांसद रणदीप एस। सराय ने बुलाया था। रणदीप ने इसे स्वीकार करते हुए माफी मांग ली है।

इस मामले पर विवाद बढ़ने के बाद कनाडा के पीएम ने कहा, 'उसे (अटवाल) आमंत्रित नहीं किया जाना चाहिए था। जैसे ही हमें यह सूचना मिली, हमने इसे कैंसल कर दिया।' वहीं, गुरुवार को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि जसपाल अटवाल को वीजा कैसे मिला, इसकी विस्तृत जानकारी अपने मिशन से ली जा रही है।

उन्होंने कहा, 'इस मामले के दो पहलू हैं उसकी (अटवाल) मौजूदगी और वीजा। कनाडा ने पहले ही साफ कर दिया है कि आमंत्रण वापस ले लिया गया है। वीजा के बारे में मुझे नहीं पता कि यह कैसे मिला। हम इसके बारे में पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं।'

इस पूरे मामले पर कनाडा के सांसद सराय ने एक बयान में कहा, 'इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम में शामिल होने के लिए मैंने अकेले ही उसके अनुरोध को आगे बढ़ाया। मैं इसके लिए पूरी जिम्मेदारी लेता हूं।'

गौरतलब है कि भारत दौरे पर आए कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो गुरुवार को अपने परिवार के साथ दिल्ली के जमा मस्जिद घूमने पहुंचे थे। इस दौरान एक पत्रकार ने कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के साथ खालिस्तान समर्थक आतंकी जसपाल अटवाल के डिनर में शामिल होने को लेकर सवाल किया था। जिस पर प्रधानमंत्री की ओर से कोई जवाब नहीं दिया गया।

जसपाल अटवाल के बारे में
अटवाल पर 1986 में वैंकूवर आइलैंड पर भारतीय कैबिनेट मंत्री मलकीयत सिंह सिंधू की हत्या का प्रयास करने का आरोप है। उस समय अटवाल कनाडा, अमेरिका, ब्रिटेन और भारत में एक आतंकी समूह के तौर पर बैन किए गए इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन के सदस्य थे। अटवाल 1985 में एक ऑटोमोबाइल फ्रॉड केस में भी दोषी पाया गया था। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें
Survey

app-download