comScore
Dainik Bhaskar Hindi

Cartist Yatra 2017 : जब पेंटिंग केनवस बनी कार से लेकर बाइक, कुछ यूं दिखा रंगों का जादू

BhaskarHindi.com | Last Modified - December 21st, 2017 21:07 IST

2.2k
0
0

डिजिटल डेस्क। राजस्थान के जयपुर से शुरु हुई कार्टिस्ट यात्रा अपनी आधी दूरी तय कर मंजिल के काफी करीब पहुंच चुकी है। 4 नवंबर से शुरु हुआ ये सफर इसे तय करने वालों के साथ देखने वालों के लिए भी काफी रोमांच भरा है। इस अनोखी यात्रा में लोगों ने कला का वो रूप देखा है जिसकी वो कल्पना भी नहीं कर सकते। आपने कभी दीवारों, तो कभी सड़कों को कलाकार का केनवस बनते देखा होगा, लेकिन क्या कभी आपने देखा कि किसी की कार ही उसका केनवस बन जाए जिसमें वो अपने रंगों से ही जान डाल दे। ऐसा ही अनोखा फ्यूजन है ये 'कार्टिस्ट यात्रा'। आसान शब्दों में समझना हो तो आप इसके नाम से ही समझ सकते हैं 'कार + आर्टिस्ट = कार्टिस्ट।' कार पर की गई इस आर्ट को कार्टिस्ट का नाम दिया गया है जिसके माध्यम में लोगों को कला के प्रति जागरूक किया जा रहा है। आपको बता दें सोमवार को ये यात्रा केरल पहुंची जहां बहुत से लोगों ने इस एग्जीबिशन का आनंद लिया। 

पिंक सिटी से शुरु हुई रंगीन यात्रा

इस अनोखी और चर्चित यात्रा की शुरुआत पिंक सिटी के नाम से जाने जाने वाले जयपुर शहर से की गई। 120 दिन की ये यात्रा इंडिया के 10 राज्यों की यात्रा कर गुजरात, मुम्बई, पूणे, हैदराबाद, बेंगलौर, कोच्चि, चेन्नई, कोलकाता और चंडीगढ़ होते हुए आखिर में दिल्ली पहुंचेगी। यात्रा का समापन तीन महीने बाद जयपुर में कार्टिस्ट ऑटोमोबाइल आर्ट फेस्टिवल के रूप में होगा। जिसमें तकरीबन 200 आर्टिस्ट अपनी कला का प्रदर्शन करेंगे।

10 स्टेट, 12 सिटी, 120 दिन और 9,100 किमी का सफर

इस यात्रा में कंटेनर्स में पेंटिड कार,ऑटो और स्कूटर्स को एक राज्य से दूसरे राज्य पहुंचाया जा रहा है। इस यात्रा का मुख्य उद्देश्य लोगों के मन में आर्ट के प्रति जागरूकता लाना है। क्योंकि आर्ट सिर्फ वो नहीं जो दीवारों पर टगें फोटो फ्रेम्स तक सिमट जाए, कला अनंत है। ये यात्रा गुलाबी शहर से शुरु होकर 10 राज्यों के 12 शहरों का सफर तय कर रही है। इस यात्रा में कुल 120 दिन ये बेजोड़ और अनोखी कला लोगों का मन लुभाएगी। इस दौरान ये यात्रा देश में लगभग 9,100 किलोमीटर का सफर तय करेगी।

Wheel Singh' और 'Car Kumari' हैं मुख्य आकर्षण



इस सफर का उद्देश्य सिर्फ कला को ऑटोमोबाइल सेक्टर से जोड़ना नहीं बल्कि नए कलाकारों को भी आगे बढ़ने का मौका देना है। ये यात्रा जहां भी पहुंचती है वहां के लोकल आर्टिस्ट को कला का नया नजरिया देती है। बता दें इस यात्रा में अब तक अतुल दोहलिया, सीमा कोहली, कंचन चंद्र, वीर मानुषी जैसे नामी कलाकार भी जुड़ चुके हैं और अपना समर्थन इस यात्रा को दे चुके हैं। वैसे अगर इस एग्जीबिशन के मुख्य आकर्षण की बात करें तो इस एग्जीबिशन कम वर्कशॉप में लोगों को 'Wheel Singh' और 'Car Kumari' काफी पसंद आ रहे हैं। ये कार के कैरेक्टर्स को नाम दिए हैं जो लोगों का काफी पसंद आ रहे हैं।

यात्रा का अब तक का सफर

जयपुर- 4 नवंबर शुरुआत
हॉल्ट एट अहमदाबाद (साबरमती रिवर फ्रंट)- 9-12 नवंबर
मुम्बई (काला घोड़ा)- 16-19 नवंबर
पुणे (एग्रीकल्चर कॉलेज) - 23-26 नवंबर
हैदराबाद (सीटी कॉलेज) 30 नवंबर - 3 दिसंबर
बेंगलूरू (Palace Ground) -7-10 दिसंबर
कोच्चि (दरबार हॉल) - 14-17 दिसंबर

सफर के अगले पड़ाव

चेन्नई (Wesley Ground ) 28-31 दिसंबर
कोलकाता - 4-7 जनवरी 2018
चंडीगढ़- 18-21 जनवरी 2018
नई दिल्ली (ऑटो एक्सपो)- 4-14 फरवरी 2018
जयपुर (कार्टिस्ट ऑटोमोबाइल आर्ट फेस्टिवल) - 22-24 फरवरी 2018

2015 से शुरु हुआ ये सफर

आपको बता दें जयपुर में इस कार्टिस्ट फेस्टिवल की शुरुआत की गयी थी। साल 2015 में ऐसा पहला एग्जीबिशन वर्कशॉप आयोजित किया गया था। इस एग्जीबिशन का उद्देश्य आपके गैराज में खड़ी सालों पुरानी गाड़ियों को नया और ऐसा रंग देना है जो आपको नेचर और आर्ट के और करीब ला दे। अगर कार पर पेंटिंग की बात करें तो इंडिया के लिए कला का ये ये रूप पुराना नहीं, लेकिन अनछुआ जरूर है। आपकों बता दें फेमस कलाकार एम.एफ हुसैन अपनी रंगीन कार सफर किया करते थे, जिसके बाद ये अमेरिका काफी फेमस हुआ और वहां के आर्टिस्ट जैकी हेरिस, डेविड बेस्ट, रॉय लिचेनस्टिन और एंडी वारहॉल ऐसे लोग हैं जो ऐसी गाड़ियों में घूमना पसंद करते थे। कार्टिस्ट यात्रा के फाउंडर हिमांशु जुनैद का कहना है कि क्योंकि ये गाड़ियां कभी रूकती नहीं इसलिए ये सबसे बेहतरीन जरिया है ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंच कर पेंटिग के माध्यम से पर्यावरण के प्रति जागरुकता फैलाने का। क्योंकि इस यात्रा का एक और अहम उद्देश्य है 'भारत की नदियों का बचाना'। ये यात्रा रैली फॉर रिवर्स को भी सपोर्ट और प्रमोट करती है।
 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

ई-पेपर