comScore

हमले में घायल वन अधिकारी अनिता के खिलाफ दर्ज हुआ एट्रासिटी का मामला

हमले में घायल वन अधिकारी अनिता के खिलाफ दर्ज हुआ एट्रासिटी का मामला

डिजिटल डेस्क, आसिफाबाद। जंगल की जमीन को कब्जे में लेने गईं वन अधिकारी अनिता के खिलाफ एट्रासिटी एक्ट के तहत मामला दर्ज हुआ है। अनिता के अलावा 15 अन्य अधिकारियों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया। यह मामला सारसाला गांव की निवासी नायिनी सरोजा नामक महिला ने दर्ज कराया, उसने आरोप लगाया कि जाति के नाम से अनिता और अन्य अधिकारियों ने गाली-गलौज की थी। अनीता पर सिरपुर विधायक कोनेरु कोनप्पा के भाई कोनेरु कृष्णा और उसके समर्थकों ने लाठियों से हमला कराया था। इस हमले अनिता गंभीर रूप से घायल भी हो गईं थी। घटना मीडिया में आते ही सरकार ने वन अधिकारी अनिता को गन मैन सुरक्षा प्रदान की थी।

मगर अब इस मामले में नया मोड़ आ गया। अधिकारियों ने बताया कि अनिता और अन्य अधिकारियों के खिलाफ एसटी एट्रासिटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। मामले जांच जारी है। पिछले दिनों हमले के दौरान अनिता गंभीर रूप से घायल हो गई। हमलावरों ने लाठियों से अनिता और अन्य कर्मचारियों पर हमला किया। अनिता बेहोश हो गई। इसी दौरान वहां पहुंची पुलिस ने उन्हें सुरक्षा प्रदान की। भीड़ को तितर बितर करने की कोशिश की गई। मगर भीड़ को काबू करने में काफी दिक्कतें आई थी।

गौतरतलब है कि सरकार ने आदेश दिया कि वन क्षेत्र के सारसाला गांव के आसपास 20 एकड़ में पौधे लगाए जाएं। इसी क्रम में वन अधिकारी पौधे लगाने के लिए वन क्षेत्र में गए थे। उस दौरान यह हमला किया गया। सिरपुर कागजनगर वन क्षेत्र में कालेश्वरम परियोजना के लिए वैकल्पिक कार्य जारी है। जिसका जेडपी वायस चेयरमैन कोनेरु कृष्णा और स्थानीय लोग विरोध कर रहे हैं। एसपी मल्ला रेड्डी ने कहा कि मामला दर्ज किया गया है। हमलावरों की पहचान की गई है। कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है। कानून के अनुसार आरोपियों के खिलाफ कानून कार्रवाई की जाएगी। अनिता को एक निजी अस्पताल में भर्ती किया गया है। हमले में बुरी तरह घायल हुई महिला अधिकारी का कहना है कि, कोनेरु कृष्णा ने सबसे पहले उनपर हमला किया था। उसके साथियों ने लाठियों से सिर पर वार किया था। उस वक्त लगा नहीं था कि जिंदा बच पाउंगी।

कमेंट करें
DV25i