comScore

व्यापमं घोटाला : CBI ने सीएम शिवराज को दी क्लीनचिट, 490 के खिलाफ चार्जशीट फाइल

November 01st, 2017 11:24 IST
व्यापमं घोटाला : CBI ने सीएम शिवराज को दी क्लीनचिट, 490 के खिलाफ चार्जशीट फाइल

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। मध्यप्रदेश के व्यापमं घोटाले को लेकर CBI ने मंगलवार को कोर्ट में चार्जशीट फाइल की। चार्जशीट में CBI ने सीएम शिवराज सिंह चौहान को क्लीनचिट दे दी है। CBI द्वारा फाइल की गई इस चार्जशीट में 490 लोगों को आरोपी बनाया गया है। साथ ही चार्जशीट में दिग्विजय सिंह के आरोपों को गलत बताया गया है। गौरतलब है कि दिग्विजय सिंह ने नितिन महिंद्रा के कंप्यूटर से मिली हार्डडिस्क में टेंपरिंग किए जाने के आरोप लगाए थे। CBI ने हार्ड डिस्क की फोरेंसिक जांच कराई। जांच में पाया गया कि हार्ड डिस्क में कोई भी छेड़छाड़ नहीं की गई।
 

इस मामले में 24 आरोपियों की मौतों पर CBI ने चार्जशीट में कहा कि 16 लोगों की मौत इस घोटाले में पुलिस के आरोपी बनाए जाने से पहले ही हो चुकी थी। मौत स्वाभाविक कारणों, दुर्घटनाओं या आत्महत्याओं से हुईं थीं। बता दें कि यह मामला एमपी व्यावसायिक परीक्षा बोर्ड (व्यापमं) द्वारा आयोजित विभिन्न प्रवेश और भर्ती परीक्षाओं में कथित अनियमितताओं से संबंधित है।


मध्य प्रदेश व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) राज्य में पीएमटी इंट्रेंस एग्जाम, इंजीनियरिंग एंट्रेंस एग्जाम और सरकारी जॉब  के लिए एग्जाम कराता है। व्यापमं घोटाला एमपी का सबसे बड़ा भर्ती घोटाला बताया जाता है। इसमें अभी तक कई बड़े नाम सामने आए, जिनमें कुछ लोग जेल में हैं। इस घोटाले में मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेजों में फर्जी एडमिशन किए गए। घोटाले में सरकारी नौकरियां भी फर्जी तरीके से अपात्र लोगों को दी गईं। सीएम शिवराज सिंह विधानसभा में स्वीकार कर चुके हैं कि घोटाले में 1000 फर्जी भर्तियां की गईं थी।

गौरतलब है कि दिग्विजय सिंह ने जिस हार्डडिस्क में टेंपरिंग का आरोप लगाया था वह 15 जुलाई 2013 को सील की गई थी। सीबीआई ने 2 पेन ड्राइव को गलत दस्तावेजों के आधार पर बनाने की भी बात कही है। सीबीआई ने जिन 490 लोगों को आरोपी बताया है, उनमें 3 व्यापमं के ऑफिसर्स, रैकेट के 3 सदस्य, 17 ब्रोकर, 297 सॉल्वर और 170 बच्चों के अभिभावक हैं।

बीजेपी 1 नवंबर को पूरे एमपी में मनाएगी जश्न 

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद नन्दकुमार सिंह चौहान ने मामले में पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह का झूठ उजागर होने पर कहा है कि इस मामले में जन-जन के लाड़ले एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान की प्रतिष्ठा को धूमिल करने का जो घिनौना कृत्य किया गया है, उसके लिए हम किसी को छोड़ने वाले नहीं है। हम कानून विदों से राय लेकर दिग्विजय सिंह के विरूद्व मानहानी सहित समुचित कानूनी कार्यवाही करेंगे।

चौहान ने प्रदेश भर के पार्टी कार्यकर्ताओं से अपील की है कि वे अपने जननायक शिवराज सिंह चौहान को सीबीआई द्वारा क्लीन चिट दिेए जाने का जश्न पूरे एमपी में जोरदार तरीके से मनाए। निश्चित तौर पर बीजेपी के कार्यकर्ताओं की प्रतिष्ठा को आंच पहुंचाने वाले झूठों का मुंह काला हुआ है। इसलिए जोरदार जश्न के माध्यम से समाज तक कांग्रेस की करतूतों और शिवराज सिंह की उज्जवल छवि को ले जाना आवश्यक है। पूरी पार्टी एक नवम्बर को प्रदेश स्थापना दिवस की खुशियों के साथ-साथ प्रदेश सरकार के मुखिया शिवराज सिंह चौहान के स्वाभिमान और सम्मान का उत्सव भी मनाएगी।

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा ने सीएम को क्लीनचिट के मामले में कहा कि यह सुप्रीम कोर्ट की अवमानना है।

कमेंट करें
hGsw9