comScore

चैत्र नवरात्रि 2018: जानिए कब शुरू हो रहा है मां शक्ति की उपासना का पर्व

February 02nd, 2018 07:00 IST

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली।  रविवार 18 मार्च से सोमवार से प्रारंभ होकर 26 मार्च 2018 तक मां शक्ति की उपासना का पर्व चैत्र नवरात्र प्रारंभ हो रहा है। अन्य दो नवरात्रियों में चैत्र नवरात्र को शक्ति पूजन के लिए सबसे विशेष माना जाता है। चैत्र नवरात्र से ही नववर्ष के पंचांग की गणना की जाती है। 


ऐसी मान्यता है कि चैत्र नवरात्र के पूर्व मां आदिशक्ति अवतरित हुई थी। कहा जाता है कि इन दिनों में विधि-विधान से मां की आराधना करने से ना सिर्फ वे प्रसन्न होती हैं, बल्कि भक्तों की मनोकामना भी पूर्ण होती है। ऐसा भी कहा जाता है नवरात्र में पूजा, व्रत करने से पूरे साल ग्रहों की स्थिति अनुकूल रहती है। 

chaitra navratri के लिए इमेज परिणाम

तंत्र साधना के लिए भी विशेष
आमतौर पर सामथ्र्य और श्रद्धानुसार नवरात्र का व्रत पूजन किया जाता है, किंतु तंत्र साधना के लिए भी इस दौरान देवी शक्ति की आराधना पूजा की जाती है। 

कठिन साधना से मिलता है फल 
नवरात्र या नवरात्रि के व्रत उपवास करना अत्यंत ही कठिन माना जाता है। घट स्थापना से लेकर विसर्जन तक अनेक भक्त बेहद कठिन साधना कर व्रत धारण करते हैं। कहा जाता है कि नवरात्र के नौ दिनों में मां आदिशक्ति पृथ्वी पर निवास करती हैं। जिसकी वजह से साधक कठिन साधना कर माता को प्रसन्न करने का प्रयास करते हैं। 

पुराणों में भी मिलता है उल्लेख
प्रतिपदा से नवमी तक पूजा विधान के पश्चात अंतिम दिन कन्याभोज कराया जाता है। नन्हीं बालिकाओं को देवी का ही स्वरूप माना जाता है जिसकी वजह से घरों से लेकर मंदिरों तक कन्याभोज आयोजित होता है। ब्रम्हा पुराणों से लेकर विभिन्न शास्त्रों में भी चैत्र नवरात्र का विशेष महत्व बताया गया है। 

भगवान विष्णु के मत्स्य रूप और भगवान श्रीराम का जन्म भी चैत्र नवरात्र में ही हुआ माना जाता है। जिसकी वजह से भी इस माह में विशेष पूजन किया जाता है। पूरे भारतवर्ष में इस त्योहार की धूम अलग ही नजर आती है।
 

कमेंट करें
कमेंट पढ़े
Vijay Lokhande March 12th, 2018 21:43 IST

Thanktou for chetra navaratri

Survey
आज के मैच
IPL | Match 38 | 21 April 2019 | 04:00 PM
SRH
v
KKR
Rajiv Gandhi Intl. Cricket Stadium, Hyderabad
IPL | Match 39 | 21 April 2019 | 08:00 PM
RCB
v
CSK
M. Chinnaswamy Stadium, Bengaluru