comScore

बच्चों ने उकेरी स्मार्ट नागपुर की तस्वीरें ,‘गोंड राजा ते मेट्रो’ को दर्शाया

बच्चों ने उकेरी स्मार्ट नागपुर की तस्वीरें ,‘गोंड राजा ते मेट्रो’ को दर्शाया

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  कलाकारों को लोगों और सरकार से बढ़ावा मिले तो कला अभिव्यक्ति का बड़ा माध्यम साबित हो सकता है। यह विचार पूर्व न्यायाधीश विकास सिरपुरकर ने बसोली की ओर से आयाेजित बाल कलाकारों के बनाए चित्रों की प्रदर्शनी के उद्घाटन अवसर पर व्यक्त किए।  उन्होंने कहा कि सांस्कृतिक दृष्टि से नागपुर लगातार प्रगति कर रहा है। पिछले कुछ वर्षों में शहर से कई नए कलाकारा सामने आए हैं। चित्रों में बच्चों ने शहर के कई पक्षों को साकार किया है। विदर्भ की तीन सौ वर्षों के इतिहास से आज की पीढ़ी को परिचित कराने के उदेश्य से बसोली की ओर से चिटणवीस सेंटर में गोंड राजा ते मेट्रो प्रदर्शनी’ का आयोजन किया गया, जिसमें नागपुर के सांस्कृतिक, राजकीय, धार्मिक, ऐतिहासिक बदलावों में चित्र के रूप में दिखाया गया है। इस अवसर पर न्यूरोसर्जन चंद्रशेखर मेश्राम,  चिटणवीस सेंटर के विकास काले और बसोली प्रमुख चंद्रकांत चन्ने उपस्थित थे।

8 मई तक जारी रहेगी
बच्चों  ने चित्रों में नाग नदी का उद्गम, चितार ओली, सावजी होटल, मारबत व बडग्या उत्सव, तान्हा पोला, टेकड़ी गणपति, संतरा मार्केट समेत 50 विषयों पर चित्र बनाए हैं। प्रदर्शनी 8 मई तक जारी रहेगी।


नवोदितों के लिए चिटणवीस सेंटर नि:शुल्क
प्रदर्शनी के उद्घााटन कार्यक्रम में विकास काले ने बताया कि चित्रकारी के क्षेत्र में नवोदित कलाकारों को बढ़ावा देने के लिए माह में चार दिन सेंटर नि:शुल्क उपलब्ध रहेगा। 

ग्रीष्मकालीन छाया चित्रण शिविर  
ऑरेंज सिटी फोटाेग्राफर्स क्लब व दक्षिण मध्य सांस्कृतिक केन्द्र द्वारा विद्यालयीन छात्रों के लिए छाया चित्रण पर तीन दिवसीय ग्रीष्मकालीन शिविर का उद्घाटन दमसां केन्द्र परिवार में किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ केन्द्र के  उपसंचालक मोहन पारखी द्वारा दीप प्रज्वलन कर किया गया। इस अवसर पर महेश कालबांडे एवं प्रशिक्षक डाॅ. मातरिश्व व्यास का स्वागत मोहन तलवारे द्वारा किया गया। क्लब के अध्यक्ष राजन गुप्ता ने बाल छाया चित्रकारों के लिए ग्रीष्मकालीन छाया चित्रण शिविर के उद्देश्य की जानकारी दी।

कार्यक्रम के प्रथम सत्र में प्रशिक्षक डॉ. व्यास ने बाल छाया चित्रकारों को मार्गदर्शन देते हुए छाया चित्रकारी की बारीकियां, कैमरा, लाइटिंग, विषय का चयन, कल्पनाशक्ति की जानकारी दी। साथ ही छाया चित्रकारी की बारीकियां भी बताई। कार्यक्रम का संचालन गजानन रानाडे तथा अाभार क्लब के सचिव मोहन तलवारे ने माना। कार्यक्रम के दौरान सुनील इंदाणे, आनंद बेटगिरि, दिनेश मेहेर, अरुण कुलकर्णी, रमाकांत झाडे, सुरेश पारलकर, अरविंद शिंगणापुरकर, भूपेन्द्र मुंडे, पंकज गुप्ता, श्रीराम मुदगलकर, दीपक चिमंत्रवार, प्रदीप पांचाल, संजय डोर्लीकर आदि उपस्थित थे। 
 

कमेंट करें
sWOb5