comScore
Dainik Bhaskar Hindi

चीनी फरमान, सिक्किम बॉर्डर से सेना हटाए भारत तभी होगी मानसरोवर यात्रा

BhaskarHindi.com | Last Modified - July 27th, 2017 15:59 IST

1.2k
0
0
चीनी फरमान, सिक्किम बॉर्डर से सेना हटाए भारत तभी होगी मानसरोवर यात्रा

एजेंसी, बीजिंग। सिक्किम में भारतीय सेना से हाथापाई और बंकर तोड़ने वाले मामले में मंगलवार को चीन के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा कि चीनी सैनिकों ने भारतीय सीमा में कोई घुसपैठ नहीं की, बल्कि भारतीय सैनिक चीन की सीमा में घुस आए थे। चीन ने आज भारत के समक्ष सिक्किम क्षेत्र में भारतीय जवानों द्वारा कथित रूप से सीमा पार करने पर विरोध दर्ज कराया और उन्हें तुरंत वापस बुलाने की मांग की है। साथ ही बीजिंग ने चेताया है कि भविष्य में यदी भारतीय श्रद्धालुओं को कैलाश मानसरोवर की यात्रा करनी है तो भारत को सिक्किम बॉर्डर से अपनी सेना को पीछे हटाना होगा।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कांग ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अपनी क्षेत्रीय संप्रभुता को बुलंद रखने को लेकर हमारा रुख दृढ़ है। हम उम्मीद करते हैं कि भारत तभी चीन के साथ काम कर सकता है, जब अपने सैनिकों को तुरंत वापस बुलाए, जो चीनी सीमा में घुस गए हैं। उन्होंने कहा हमने अपने महत्वपूर्ण रुख के बारे में बताने के लिए बीजिंग और नई दिल्ली में गंभीर विरोध दर्ज कराया है।

तिब्बत में घुसने की चीन से अनुमति नहीं देने से गंगटोक वापस लौटने वाले कैलाश मानसरोवर जा रहे श्रद्धालुओं के भविष्य के बारे में लु कांग ने कहा कि सुरक्षा कारणों से उनकी यात्रा रद्द कर दी गई है। उन्होंने श्रद्धालुओं की भविष्य की यात्रा को क्षेत्र से भारत द्वारा जवानों को हटाने से जोड़ा। लु ने कहा, 'जहां तक सिक्किम क्षेत्र में नाथू ला दर्रे से होकर भारतीय श्रद्धालुओं की यात्रा का सवाल है, तो मुझे लगता है कि भारतीय पक्ष इसे लेकर बहुत स्पष्ट है। लंबे वक्त से चीन की सरकार ने भारतीय श्रद्धालुओं को जरूरी सुविधाएं देने के लिए बहुत प्रयास किए हैं, लेकिन हाल में भारतीय सीमा पर तैनात जवानों ने चीन की सीमा पार करके हमारा निर्माण कार्य बाधित किया, हमने जरूरी कार्रवाई की है। सुरक्षा कारणों से हमें नाथू ला-दर्रे से होकर जाने वाली भारतीय श्रद्धालुओं की तीर्थयात्रा रोकनी होगी।' लु ने कहा कि आगामी कार्रवाई को लेकर हम इस बात पर निर्भर हैं कि भारतीय पक्ष क्या करेगा। उन्हें सुरक्षा स्थिति सुधारने के लिए कार्रवाई करनी होगी।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कल रात कहा था कि चीन, भारत से अनुरोध करता है कि वह सीमा पार करने वाले जवानों को तुरंत वापस बुलाए और इस मामले की विस्तृत जांच कराए।  उन्होंने एक बयान में कहा, 'भारतीय सीमा रक्षक बलों ने चीन-भारत सीमा के सिक्किम क्षेत्र में सीमा पार की और चीन के क्षेत्र में घुस गए। उन्होंने हाल ही में सिक्किम में दोंगलांग क्षेत्र में चीनी सीमा बलों की सामान्य गतिविधियों को बाधित किया। चीनी पक्ष ने जवाबी कदम उठाए।' उनका बयान चीन के रक्षा मंत्रालय के उस बयान के बाद आया है जिसमें उसने भारतीय जवानों पर सड़क निर्माण के एक काम पर आपत्ति जताने का आरोप लगाया था। चीन ने दावा किया कि सड़क निर्माण वह अपने क्षेत्र में कर रहा है।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

app-download