comScore
Dainik Bhaskar Hindi

केरल नन रेप केस : ‘पीड़िता के पक्ष में ईसाई समुदाय से आ रही प्रतिक्रिया सही नहीं’

BhaskarHindi.com | Last Modified - September 14th, 2018 22:45 IST

1.8k
0
0
केरल नन रेप केस : ‘पीड़िता के पक्ष में ईसाई समुदाय से आ रही प्रतिक्रिया सही नहीं’

डिजिटल डेस्क, मुंबई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मुस्लिम महिलाओं का मसीहा बनने का मौका खुद मुस्लिम समुदाय ने दिया है। ईसाई समुदाय को यह गलती नहीं दोहरानी चाहिए। केरल नन बलात्कार मामले की निष्पक्ष जांच की मांग करते हुए इंडियन मुस्लिम फॉर सेक्यूलर डेमोक्रेसी से जुड़े फिरोज मिठीबोरवाला ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि नन बलात्कार मामले में ईसाई समुदाय की ओर से जैसे बयान आ रहे हैं वो ठीक नहीं हैं।

मिठीबोरवाला ने कहा कि अगर मुसलमानों ने 70 साल तक महिलाओं की आवाज नहीं दबाई होती और उनकी शिकायतें सुनी होती तो तीन तलाक जैसे मामलों में भाजपा को श्रेय लेने का मौका नहीं मिलता। उन्होंने तीन तलाक के मामले को अदालत में ले जाने वाली शबनम रानी पर तेजाब से हमले की निंदा करते हुए लड़ाई लड़ रही सभी महिलाओं को सुरक्षा देने की मांग की है। शुक्रवार को कई धर्मनिरपेक्ष और सामाजिक संगठनों से जुड़े लोगों ने पीड़ित नन के साथ खड़े होने और उन्हें न्याय दिलाने की बात कही। 

शुक्रवार को मुंबई मराठी पत्रकार संघ में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में ऑल इंडिया कैथेलिक यूनियन के पूर्व अध्यक्ष और पुलिस रिफार्म वाच से जुड़े डोल्फी डिसूजा ने कहा कि पीड़ित नन ने अपनी तरफ ईसाई धर्म से जुड़े सभी बड़े दरवाजे खटखटाए, लेकिन न्याय नहीं मिला, इसीलिए वह पुलिस के पास गईं। उन्होंने कहा कि महिलाओं के धार्मिक अधिकारों के लिए यह लड़ाई बेहद अहम है। भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन से जुड़ी नूरजहां साफिया नियाज ने कहा कि धर्म के ठेकेदार सवाल पूछा जाना पसंद नहीं करते। लेकिन अब सभी धर्मों की महिलाएं सवाल उठा रहीं हैं। महिलाओं में आने वाले बदलाव की सराहना होनी चाहिए। महिलाएं धर्म नहीं धर्म के ठेकेदारों पर सवाल उठा रहीं हैं। 

टाटा इंस्टिट्यूट फॉर सोशल साइंसेस की असिस्टेंट प्रोफेसर व समाजिक कार्यकर्ता ब्रिनेल डिसूजा ने कहा कि लोग सरकार के खिलाफ बयान दें तो उन्हें देशद्रोही और धर्मगुरू के खिलाफ बयान दें तो धर्म विरोधी करार दिया जाता है। महिलाओं का चरित्र हनन किया जाता है लेकिन जरूरी है कि समाज आवाज उठाने वाली महिला महिलाओं के साथ खड़ा रहे। उन्होंने कहा कि आरोपी विशप फ्रैंको मुलक्कल को अपने पद से तुरंत इस्तीफा देना चाहिए क्योंकि वे जांच प्रभावित कर सकते हैं।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर