comScore
Dainik Bhaskar Hindi

अगस्ता वेस्टलैंड : बिचौलिये मिशेल का प्रत्यर्पण, दुबई से लाया गया दिल्ली

BhaskarHindi.com | Last Modified - December 05th, 2018 12:49 IST

2.5k
0
0

News Highlights

  • 3,600 करोड़ रुपये के VVIP अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाले में भारत को बड़ी कामयाबी मिली है।
  • लंबी कोशिशों के बाद आखिरकार इस डील के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को CBI दिल्ली लेकर आ रही है।
  • दिल्ली लाए जाने के बाद उसे CBI की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा।
  • 2017 में खाड़ी देशों से भारत ने मिशेल के प्रत्यर्पण की मांग की थी
  • सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के नेतृत्व में चलाया गया ऑपरेशन
  • CBI के मुताबिक डील में 2,666 करोड़ रुपये का हो रहा था नुकसान


डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। 3,600 करोड़ रुपये के VVIP अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाले में भारत को बड़ी कामयाबी मिली है। लंबी कोशिशों के बाद आखिरकार इस डील के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को CBI मंगलवार रात दुबई से दिल्ली लेकर आ गई। दिल्ली लाए जाने के बाद अब उसे CBI की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा। बता दें कि 2017 में खाड़ी देशों से भारत ने मिशेल के प्रत्यर्पण की मांग की थी। यह ऑपरेशन राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के नेतृत्व में चलाया गया। भारत की जांच एजेंसियां मिशेल को मंगलवार को दुबई इंटरनैशनल एयरपोर्ट ले गईं थीं। 

CBI और ED दोनों इस मामले की जांच कर रहे हैं। पिछले महीने ही दुबई की अदालत ने निचली अदालत का फैसला बरकरार रखते हुए ये माना था कि मिशेल का भारत प्रत्यर्पण किया जा सकता है। कोर्ट ने मिशेल के वकीलों की गुहार खारिज करते हुए ये आदेश दिया था। जिसके बाद अब उसे भारत लाया गया है। 

2016 में मिशेल के खिलाफ ED ने चार्जशीट फाइल की थी। चार्जशीट में कहा गया था कि 12 हेलीकॉप्टरों के सौदे को अपने पक्ष में करने के लिए 225 करोड़ रुपए की रिश्वत दी गई थी। जिसके बाद फरवरी 2017 में क्रिश्चियन मिशेल को UAE में अरेस्ट कर लिया गया था। मिशेल के अलावा CBI और ED ने गुइदो हाश्के और कार्लो गेरोसा को भी बिचौलिया बताया था। मिशेल के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी होने के बाद जांच एजेंसियों ने इंटरपोलर रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर दिया था। मिशेल के वकील ने आरोप लगाया था कि उनके क्लाइंट पर जांच एजेंसी दबाव बना रही है। हालांकि इन आरोपों को जांच एजेंसी ने सिरे से खारिज कर दिया था।

जांच से जुड़े CBI के एक अधिकारी ने कहा, अगस्ता वेस्टलैंड की ओर से दलाली की रकम क्रिश्चियन मिशेल की कंपनियों में दिये जाने के ठोस सबूत हैं। इन सबूतों के आधार पर ही UAE की कोर्ट ने मिशेल को भारत को सौंपने का फैसला किया है। क्रिश्चियन मिशेल दुबई की जेल में बंद था।

बता दें कि अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर घोटाला, यूपीए सरकार के कार्यकाल में हुआ था। कॉन्ट्रैक्ट के तहत 12 VVIP चॉपर्स की आपूर्ति की जानी थी, जो 1 जनवरी 2014 को रद्द कर दी गई। CBI के मुताबिक इस डील में 2,666 करोड़ रुपये का नुकसान का नुकसान हो रहा था। यह सौदा 8 फरवरी 2010 को किया गया था। इसके तहत 556.262 मिलियन यूरो में 12 हेलिकॉप्टर खरीदे जाने थे। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें