comScore

जनमत 2019: NDA के पक्ष में 79.1 फीसदी जनता, 80% लोगों की पहली पसंद मोदी


हाईलाइट

  • लोकसभा चुनाव 2019 पर दैनिक भास्कर का महासर्वेक्षण
  • 2019 में बनेगी एनडीए की सरकार !
  • प्रधानमंत्री के लिए 80 फीसदी लोगों पहली पसंद नरेन्द्र मोदी

डिजिटल डेस्क, भोपाल। लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजे 23 मई को समाने आएंगे, लेकिन इन नतीजों से पहले दैनिक भास्कर जबलपुर-नागपुर समूह की वेबसाइट भास्कर हिन्दी.कॉम के प्री-पोल सर्वेक्षण के नतीजे सामने आ गए हैं। भास्कर के सर्वे के अनुसार इस बार केन्द्र में एनडीए की सरकार बनती नजर आ रही है। सर्वे में शामिल लोग मानते हैं राफेल के मुद्दे से भाजपा को कोई नुकसान नहीं होगा। न ही प्रियंका गांधी के चुनावी मैदान में प्रचार करने से कांग्रेस को कोई विशेष फायदा होने वाला है। 

भास्कर हिन्दी.कॉम ने ऑनलाइन सर्वेक्षण में कुल 13 प्रश्न पूछे थे, जिनके जवाब में आए लोगों की राय के विश्लेषण में यह बात सामने निकलकर आई कि केन्द्र में भाजपा के नेतृत्व वाले गठबंधन एनडीए की ही सरकार बनने की पूरी संभावना है। इसके साथ प्रधानमंत्री पद पर आम लोगों की पहली पसंद नरेन्द्र मोदी है। मोदी-राहुल की लोकप्रियता में चार गुने से ज्यादा का अंतर है। 

उम्र के अनुसार सर्वे में भाग लेने वालों का प्रतिशत 
इस सर्वेक्षण में प्रधानमंत्री पद के लिए पहली पसंद में चार विकल्प थे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को 80.4 फीसदी लोगों ने पसंद किया, जबकि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को महज 17.3 फीसदी लोगों ने पसंद किया है, वहीं बसपा प्रमुख मायावती को पसंद करने वाले 0.9 प्रतिशत और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी को पसंद करने वालों का प्रतिशत 1 है। 

79.1 फीसदी जनता भाजपा नेतृत्व वाली NDA सरकार चाहती है
लोकसभा चुनाव 2019 में दैनिक भास्कर के सर्वे के मुबातिक 79.1 फीसदी लोग भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के पक्ष में है। वहीं 18.6 फीसदी लोग चाहते हैं कि कांग्रेस की सरकार बननी चाहिए। महज 2.3 फीसदी लोग तीसरे मोर्च की सरकार चाहते हैं। 

73.8 फीसदी लोगों ने कहा पूर्ण बहुमत की सरकार बनेगी
सर्वेक्षण में 73.8 फीसदी लोगों ने कहा कि पूर्ण बहुमत की सरकार बनेगी, जबकि 17.3 फीसदी लोगों को इस पर विश्वास नहीं है। 8.9 फीसदी लोगों की राय स्पष्ट नहीं है। एक बड़ा वर्ग पूरी तरह से स्थिर सरकार को लेकर आश्वस्त है। 

सपा-बसपा के गठबंधन से ज्यादा नुकसान नहीं 
सर्वेक्षण के मुताबिक 37.5 फीसदी लोगों का मानना है कि इस लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन पार्टी के बीच हुए गठबंधन से एनडीए को किसी भी प्रकार नुकसान नहीं पहुंचेगा। जबकि 30.9 फीसदी लोग मानते है सपा-बसपा का गठबंधन एनडीए को नुकसान पहुंचा सकता है। 29.6 फीसदी लोगों के मुताबिक नुकसान बहुत ही कम होगा। वहीं 2 फीसदी लोग कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं है। 

प्रियंका गांधी की एंट्री से फायदा नहीं 
कांग्रेस की स्टार प्रचारक प्रियंका गांधी के आने से कांग्रेस को कोई फायदा नहीं होगा। सर्वे रिपोर्ट के मुबातिक 59.4 फीसदी लोगों को लगता है कि प्रियंका के आने से कांग्रेस को बड़ा लाभ नहीं होगा, जबकि 30.7 फीसदी लोग मानते है कांग्रेस को फायदा होगा। इस बात पर 9.9 फीसदी लोगों की स्पष्ट राय नहीं है। 

विधानसभा चुनाव के नतीजों से बीजेपी को कोई नुकसान नहीं
हिन्दी भाषी राज्य मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा था। सर्वे के मुताबिक 69.6 फीसदी लोगों का मानना है कि इन नतीजों से लोकसभा चुनाव में बीजेपी को कोई नुकसान नहीं होगा। जबकि 30.4 फीसदी लोग मानते है कि विधानसभा की हार लोकसभा चुनाव का गणित बिगाड़ सकती है। 

राफेल मुद्दे से भी नुकसान नहीं 
सर्वे के मुताबिक 76.7 फीसदी लोगों का मानना है कि राफेल मुद्दा भाजपा को कोई नुकसान नहीं पहुंचा सकता है, जबकि 23.3 फीसदी लोगों को लगता है कि राफेल एक बड़ा मुद्दा है जो भाजपा को चुनाव में नुकसान पहुंचाएगा। 

नोटबंदी-जीएसटी बीजेपी के लिए फायदेमंद 
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नोटबंदी और जीएसटी के फैसले पर 38.5 फीसदी लोगों का मानना है कि इस भाजपा को फायदा होगा, जबकि 33.6 फीसदी लोग मानते है कि ये दोनों मुद्दे चुनाव पर असर नहीं डालेंगे। इस सवाल पर 27.9 फीसदी लोगों की राय स्पष्ट नहीं है। 

गरीब सवर्णों का आरक्षण भाजपा के लिए फायदेमंद 
भाजपा ने गरीब सवर्णों को जो आरक्षण दिया है, वह सर्वणों को मनाने की कोशिश है। 63.5 प्रतिशत लोगों का मानना है कि इस मुद्दे से भाजपा सवर्णों को मनाने में कामयाब रही है, वहीं 21.9 प्रतिशत लोग यह मानते हैं कि भाजपा को कामयाबी नहीं मिली है, जबकि 14.6 प्रतिशत अपनी राय व्यक्त करने की स्थिति में नहीं हैं। 

कर्जमाफी से कांग्रेस को बढ़त नहीं 
विधानसभा चुनाव में कर्जमाफी का मुद्दा उठाकर कांग्रेस ने किसानों के मसले पर बढ़त लेने का प्रयास किया है, लेकिन 59.7 फीसदी लोगों का मानना है कि इससे कांग्रेस को कोई फायदा नहीं हुआ है। जबकि 29 फीसदी मानते है कि कांग्रेस फायदे में है। इस मुद्दे पर 11.3  प्रतिशत लोग कुछ कहने की स्थिति में नहीं है। 

राम जन्मभूमि मुद्दे पर वोट नहीं 
सर्वेक्षण में 54.2 फीसदी लोगों ने माना है कि राम जन्मभूमि मुद्दे को ध्यान में रखकर फिर से वोट नहीं देंगे। 45.8 फीसदी लोग मानते हैं कि वोटिंग में यह मुद्दा महत्वपूर्ण रहेगा। 

आतंकवाद के खिलाफ मोदी सरकार सफल 
सर्वेक्षण के मुताबिक 82.1 फीसदी लोगों का मानना है कि आतंकवाद के खिलाफ मोदी सरकार की नीति सही थी, वहीं 11.3 फीसदी ने मोदी सरकार की नीति को गलत ठहराया है। इस मुद्दे पर 6.6 फीसदी लोगों की राय स्पष्ट नहीं है। 

पुलवामा हमला होगा चुनावी मुद्दा 
आतंकियों द्वारा पुलवामा में किया गया आतंकी हमला और फिर इसके चंद दिनों बाद देश की ओर से की गई कार्यवाही 52.2 फीसदी लोगों की मुताबिक चुनावी मुद्दा है। 38.5 फीसदी लोग मानते है कि इससे चुनाव पर कोई असर नहीं पड़ने वाला है, जबकि 9.3 फीसदी लोग कुछ कहने की स्थिति में नहीं है। 


 

कमेंट करें
tnuj6
कमेंट पढ़े
Rajeshmarskole May 23rd, 2019 23:13 IST

jay hind