comScore

नवरात्रि का चौथा दिन: ऐसे करें मां कुष्माण्डा को प्रसन्न

April 09th, 2019 14:18 IST

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। आज नवरात्रि का चौथा दिन है, इस दिन मां कुष्मांडा की पूजा आराधना की जाती है। माता कुष्मांडा की आठ भुजाएं हैं, ये अष्टभुजाधारी के नाम से भी विख्यात हैं। संस्कृत भाषा में कुष्मांडा को कुम्हड़ कहते हैं, और इन्हें कुम्हड़ा विशेष रूप से प्रिय है। ज्योतिष में इनका सम्बन्ध बुध ग्रह से है।

कौन हैं माता कुष्मांडा...
नवरात्रि पूजन के चौथे दिन कुष्मांडा देवी के स्वरूप की उपासना की जाती है। इस दिन पूजा करने वाले का मन अदाहत चक्र में स्थित माना जाता है, इस कारण उसे पवित्र और स्थिर मन से कुष्मांडा देवी के स्वरूप को ध्यान में रखकर पूजा-उपासना करनी चाहिए। कहते हैं कि इन्हीं कुष्मांडा देवी ने ब्रह्मांड की रचना की थी।

अतः इन्हें ही सृष्टि की आदि-स्वरूपा, आदिशक्ति माना जाता हैं। कुष्मांडा निवास सूर्यमंडल के भीतर के लोक में है। इनकी आठ भुजायें हैं, अतः ये अष्टभुजा देवी के नाम से भी जानी जाती हैं। देवी के सात हाथों में क्रमशः कमंडल, धनुष, बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र और गदा है। वहीं आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जपमाला है। माँ कुष्मांडा का वाहन सिंह है।

कुष्मांडा देवी का पूजन नवरात्र के चौथे दिन होता है। अपनी हल्की हंसी के द्वारा ब्रह्मांड(अंड) को उत्पन्न करने के कारण इनका नाम कुष्मांडा हुआ। ये अनाहत चक्र को नियंत्रित करती हैं। मां की आठ भुजाएं हैं। ये अष्टभुजाधारी देवी के नाम से भी विख्यात हैं। संस्कृत भाषा में कुष्मांडा को कुम्हड़ कहते है और इन्हें कुम्हड़ा विशेष रूप से प्रिय है। ज्योतिष में इनका सम्बन्ध बुध ग्रह से है।

कुष्मांडा की पूजा ....
देवी कुष्मांडा को लाल पुष्प अत्यंत प्रिय हैं, इसलिए उनके पूजन में इन्हें अवश्य अर्पित करें और फल मिष्ठान का भोग लगाएं। कपूर से आरती करें और इस मंत्र का जाप करें।

 ‘सुरासंपूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च। दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मे॥’

मां कुष्मांडा की उपासना से भक्तों के समस्त रोग-शोक मिट जाते हैं और वे थोड़ी सेवा और भक्ति से प्रसन्न होने वाली हैं। यदि मनुष्य सच्चे हृदय से इनका शरण में आए तो उसे सुगमता से परम पद की प्राप्ति हो सकती है। यदि इस दिन एक बड़े माथे वाली विवाहित महिला का पूजन करके उन्हें दही, हलवा खिलाया जाए। बाद में फल, सूखे मेवे और सौभाग्य का सामान भेंट किया जाए तो मां कुष्मांडा अत्यंत प्रसन्न होती हैं।

क्या है देवी कुष्मांडा की पूजा विधि और क्या है इनकी पूजा से लाभ? 
इस दिन हरे वस्त्र धारण करके मां कुष्मांडा का पूजन करें। पूजा के दौरान मां को हरी इलाइची, सौंफ या कुम्हड़ा अर्पित करें। इसके बाद उनके मुख्य मंत्र "ॐ कुष्मांडा देव्यै नमः" का 108 बार जाप करें। यदि आप चाहें तो सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का पाठ भी कर सकते हैं। आज के दिन माता को मालपुए बनाकर विशेष भोग लगाएं। इसके बाद उसको किसी ब्राह्मण या निर्धन को दान कर दें। इससे बुद्धि का विकास होने के साथ-साथ निर्णय क्षमता अच्छी हो जाती है।

कुष्मांडा की पूजा का महत्व...
इनकी भक्ति से आयु, यश, बल और आरोग्य की वृद्धि होती है। शास्त्रों के अनुसार कुष्मांडा की पूजा से ग्रहों के राजा सूर्य से उत्पन्न दोष दूर होते हैं। इसके साथ ही व्यापार, दांपत्य, धन और सुख समृद्धि में वृद्धि होती है। मां कुष्मांडा की साधना करने वालों को विभिन्न रोगों से भी मुक्ति मिलती है जिनमें नेत्र, केश, मस्तिष्क, हृदय, मेरुदंड, उदर, रक्त, पित्त और अस्थि से संबंधित अनेक रोग सम्मिलित हैं।

कमेंट करें
a27FC