comScore

पंड्या-राहुल सस्पेंड, जांच पूरी होने तक नहीं बन सकेंगे टीम का हिस्सा

January 12th, 2019 00:31 IST
पंड्या-राहुल सस्पेंड, जांच पूरी होने तक नहीं बन सकेंगे टीम का हिस्सा

हाईलाइट

  • TV शो में आपत्तिजनक टिप्पणियों के बाद पंड्या और राहुल पर सख्त ऐक्शन लेना लगभग तय
  • COA सदस्य डायना इडुल्जी ने अगले ऐक्शन तक पंड्या और राहुल को सस्पेंड करने की सिफारिश की

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पॉपुलर टेलिविजन शो 'कॉफी विद करण' में  इंडियन क्रिकेटर हार्दिक पंड्या और केएल राहुल के विवादित बयान के बाद टीम से उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है। जांच पूरी होने तक वह टीम का हिस्सा नहीं बन पाएंगे। सस्पेंड होने के बाद अब दोनों खिलाड़ियों को ऑस्ट्रेलिया से भारत लौटना होगा। बता दें कि हार्दिक पंड्या ने इस शो में कहा था कि उनके कई महिलाओं के साथ संबंध है। पंड्या के इस बयान की चौतरफा आलोचना हो रही थी। विवाद बढ़ने के बाद स्टार नेटवर्क ने भी अपने इस विवादित शो को हटा लिया है।

गौरतलब है कि कानूनी सलाह लेने के बाद शुक्रवार को BCCI की प्रशासकों की समिति (COA) सदस्य डायना इडुल्जी ने अगले ऐक्शन तक पंड्या और राहुल को सस्पेंड करने की सिफारिश की थी। प्रशासकों की समिति (COA) के प्रमुख विनोद राय ने हार्दिक और राहुल पर दो वनडे का प्रतिबंध लगाने की मांग की थी, लेकिन तब डायना इडुल्जी ने इस मामले को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) की लीगल सेल के पास भेज दिया था। उन्होंने कहा था कि, कानूनी सलाह के बाद इस मामले पर कोई फैसला लिया जाएगा। 

बीसीसीआई के सीईओ राहुल जोहरी का उदाहरण देते हुए इडुल्जी ने कहा था कि यह जरूरी है कि दोनों खिलाड़ियों को अगले ऐक्शन तक सस्पेंड किया जाए। राहुल जोहरी पर यौन शोषण के आरोप लगने पर भी ऐसा ही किया गया था। इडुल्जी ने आगे लिखा है कि कानूनी सलाह के बाद सामने आई बात को जल्द से जल्द खिलाड़ियों और टीम तक पहुंचा दिया जाना चाहिए। 

लीगल सेल के प्रमुख सिरिल अमरचंद मंगलदास ने अपनी सलाह में कहा था कि, पंड्या द्वारा किए गए कॉमेंट किसी तरह की आचार संहिता का उल्लंघन नहीं हैं। अपने बयान में फर्म ने आगे लिखा है कि पंड्या का बयान किसी खिलाड़ी के खिलाफ नहीं था और ना ही वह किसी मैच या फिर सपोर्ट स्टाफ के खिलाफ बोले थे।

सलाह में लिखा था, हमारा मानना है कि मौजूदा मामला आचार संहिता के उल्लंघन के दायरे में नहीं आता और मौजूदा हालात में आचार संहिता की प्रक्रिया को लागू नहीं किया जा सकता। बीसीसीआई से जुड़े एक और अधिकारी ने कहा कि दोनों को सस्पेंड करके ही आगे जांच हो सकती है। उन्होंने कहा कि यहां बात सिर्फ आचार संहिता की नहीं है, बल्कि संस्थान को किसी भी बदनामी से बचाने की है। भारतीय टीम को शनिवार से ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 3 वनडे मैचों की सीरीज खेलनी हैं।

कमेंट करें
b1Q7i