comScore

परेशान छात्रा घर छोड़कर हॉस्टल में रहने लगी, नहीं माना बदमाश, मांगी पुलिस से मदद

परेशान छात्रा घर छोड़कर हॉस्टल में रहने लगी, नहीं माना बदमाश, मांगी पुलिस से मदद

डिजिटल डेस्क,जबलपुर। अधारताल के कंचनपुर में रहने वाली एक कॉलेज छात्रा क्षेत्र के एक युवक की छेड़छाड़ और धमकियों से परेशान होकर घर छोड़कर विजय नगर स्थित निजी हॉस्टल में रहने लगी, लेकिन बदमाश फिर भी नहीं माना और घर के साथ हॉस्टल पहुंचकर भी छात्रा को परेशान करने लगा। तंग आकर छात्रा ने रविवार की दोपहर कोड रेड में शिकायत दी, जिस पर कोड रेड टीम-2 ने उसे गिरफ्तार कर लिया। कोड रेड प्रभारी एसआई अरुणा वहाने के अनुसार पीड़ित छात्रा की शिकायत पर कोड रेड- 2 के प्रभारी  नितिन पांडे और उनकी टीम को जाँच सौंपी गई थी। रविवार की शाम करीब 6 बजे पीड़िता ने जानकारी दी कि वह हॉस्टल से छुट्टी में घर आई थी, जिसके बारे में उसे परेशान करने वाले आयुष तिवारी को पता चला और वह उसके घर के सामने आकर धमकियां दे रहा है। लिहाजा टीम पहुँची और आयुष को हिरासत में ले लिया। कोड रेड टीम आयुष को अधारताल थाने ले गई, जहां पुलिस ने उसे प्रतिबंधात्मक कार्रवाई 151 के तहत गिरफ्तार कर लिया।
 

किसी करीबी ने की है मासूम की हत्या
चरगवाँ के बिजौरी-सगड़ा गाँव में हुए मासूम बादल गिरि गोस्वामी की मौत के मामले में पुलिस के शक की सुई मृत बच्चे के रिश्तेदारों और करीबियों की तरफ घूम गई है। दरअसल रविवार को गाँव की एक बच्ची ने पुलिस से पूछताछ में बताया कि आखिरी बार उसने बादल को रोते हुए अपने घर की तरफ जाते हुए देखा था। पहले बच्चे के घर से 100 मीटर दूर तिराहे से गायब होने की बात सामने आ रही थी, लेकिन इस नई जानकारी के बाद पुलिस का मानना है कि बादल दूर नहीं, बल्कि अपने घर के पास से गायब हुआ होगा और उसकी हत्या के पीछे किसी करीबी का हाथ हो सकता है। 

पुलिस ने इस अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाने के लिए गाँव के 56 से ज्यादा लोगों को हिरासत में ले लिया है, जिसमें कुछ महिलाएँ भी शामिल हैं। इसके अलावा पुलिस ने गाँव के 100 से ज्यादा लोगों के मोबाइल्स की डिटेल का सीडीआर भी जुटाया है, जिससे सबूत तलाशे जा रहे हैं। पिछले तीन दिनों से एएसपी ग्रामीण रायसिंह नरवरिया समेत पाँच थानों की टीम गाँव में कैंप लगाकर जाँच कर रही है। मामले का खुलासा न होने के कारण पुलिस दबाव के चलते सख्ती से काम ले रही है, लेकिन इसके बावजूद भी पुलिस के हाथ खाली ही हैं। 
 

कमेंट करें