comScore
Dainik Bhaskar Hindi

एकादशी के दिन भूलकर भी ना करें ये 5 काम...

BhaskarHindi.com | Last Modified - December 08th, 2017 07:33 IST

2.2k
0
0

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। एकादशी पर व्रत, जप के बहुत अधिक महत्व है। एकादशी को धर्म ग्रंथों में भी श्रेष्ठ माना गया है। एकादशी का व्रत का पुण्य पूर्वजों को भी प्राप्त होता है। इसे रखने से जीवन के सभी कष्ट दूर होते हैं एवं शांति की प्राप्ति होती है। 13 दिसंबर को सफला एकादशी है। यहां हम कुछ ऐसे काम बताने जा रहे हैं एकादशी के दिन करना वर्जित हैं अर्थात आप व्रतधारी हैं या नहीं इन 5 कार्यों को करने से बचना ही श्रेष्ठ है...

रात्रि में सोना

एकादशी के दिनभर व्रत के बाद रात्रि में सोना नही चाहिए। पूरी रात जागकर भगवान विष्णु की आराधना करें। उनका स्मरण करते हुए भजन गायन करने से श्रीहरि की कृपा प्राप्त होती है। ऐसा वे भी कर सकते हैं जो व्रती नही हैं। 


पान खाना 
पान खाने से मन में रजोगुण आते हैं। इसलिए एकादशी के दिन इसका सेवन नही करना चाहिए। इस दिन सात्विक आचार विचारों के साथ प्रभु की भक्ति व आराधना में मन लगाना चाहिए। 

दूसरों की बुराई अर्थात परनिंदा

परनिंदा करना पुराणों में भी उत्तम नही बताया गया। कहा जाता है एकादशी के दिन ऐसा करने से व्रत का फल नष्ट हो जाता है। इस दिन परनिंदा ना कर भगवान विष्णु का ध्यान करना चाहिए।

चुगली करना
ऐसा करने से मान-सम्मान में कमी आती है। अपमान का सामना करना पड़ता है। एकादशी के दिन चुगली करने से प्रभु भी रुष्ठ होते हैं। वैसे अन्य दिनों मे भी ऐसा करने से बचना चाहिए। 

चोरी व हिंसा करना
चोरी और हिंसा दोनों ही पाप की श्रेणी में आते हैं। एकादशी के दिन व्रती को पूर्ण नियमों का पालन करते हुए व्रत रखना चाहिए। चोरी और हिंसा से दूर रहना चाहिए। शास्त्रों में बताया गया है कि चोरी और हिंसा का दंड मनुष्य को अगले जन्म में भुगतना पड़ता है। उसे उसके कर्मों के अनुसार ही योनी प्राप्त होती है। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ई-पेपर