comScore

फ्राड : ईडी ने अटैच की एम्प्रेस मॉल की करोड़ों की प्रापर्टी

फ्राड : ईडी ने अटैच की एम्प्रेस मॉल की करोड़ों की प्रापर्टी

डिजिटल डेस्क, नागपुर। फ्रॉड केस में एम्प्रेस मॉल की करोड़ों की प्रापर्टी को इडी ने अटैच किया है। बैंक के साथ आर्थिक धोखाधड़ी के मामले में बैंक की शिकायत पर कोलकाता पुलिस में पहले मामला दर्ज किया गया। इसके बाद सीबीआई से जांच कराई गई। पुलिस के हाथ आर्थिक धोखाधड़ी के तार लगने पर ईडी को मामला सौंपा गया। ईडी ने कार्रवाई को आगे बढ़ते हुए एम्प्रेस मॉल और इसी ग्रुप की मुंबई स्थित एक संपत्ति अटैच कर ली है। अटैच की गई संपत्ति की अनुमानित कीमत 717 करोड़ बताई गई है।

यह है मामला
एम्प्रेस मॉल केएसएल इंडस्ट्रियल लिमिटेड कंपनी का प्रोजेक्ट है। यह तायल ग्रुप की सह कंपनी है। सूत्रों ने बताया कि केएसएल इंडस्ट्रियल कंपनी ने व्यावसायिक प्रोजेक्ट के लिए यूको बैंक, बैंक ऑफ इंडिया और आंध्र बैंक से 524 करोड़ कर्ज लिया। जिस प्रोजेक्ट के लिए कर्ज लिया, उस प्रोजेक्ट पर खर्च नहीं करते हुए नागपुर में एम्प्रेस मॉल और व्यावसायिक प्रोजेक्ट पर 483 करोड़ रुपए खर्च किए गए। बैंक को कर्ज नहीं लौटाए जाने पर खाता एनपीए किया गया। 

2008 में हुई थी शिकायत
इस प्रकरण में आर्थिक धोखाधड़ी किए जाने की बैंक ने वर्ष 2008 में कोलकाता पुलिस में िशकायत की थी। पुलिस से मामला सीआईडी और इसके बाद ईडी के पास पहुंचा। ईडी के नागपुर कार्यालय ने जांच कर केएसएल इंडस्ट्रियल लिमिटेड कंपनी और इसकी सह कंपनी तायल ग्रुप पर शिकंजा कसते हुए एम्प्रेस मॉल तथा व्यावसायिक वास्तु जिसकी कीमत 483 करोड़ और मुंबई में 234 करोड़ की कीमत की संपत्ति अटैच कर ली है। 

ग्रुप से जुड़ी कंपनियों की जांच
सूत्रों ने बताया कि इस ग्रुप से जुड़ी और 3 सहयोगी कंपनियों की जांच की जा रही है। इसमें मेसर्स एक्टीफ कॉर्पोरेशन लिमिटेड, मेसर्स जयभारत टेक्सटाइल एंड रियल एस्टेट लिमिटेड तथा केकेटीएल एंड मेसर्स एसके नीट (इंडिया) लिमिटेड का समावेश है।
 

कमेंट करें
zE28t