comScore

श्रीनगर में राइजिंग कश्मीर के एडिटर की गोली मारकर हत्या, आतंकियों ने दी थी धमकी

June 15th, 2018 14:44 IST

हाईलाइट

  • श्रीनगर में राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की गोली मारकर हत्या।
  • बुखारी के सिर और पेट के पास गोलियां मारी गईं।
  • हमले में उनका सुरक्षाकर्मी भी घायल हुआ है।

डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। श्रीनगर में राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की गुरुवार को आतंकियों ने गोली मारकर हत्या कर दी। बुखारी को श्रीनगर के प्रेस एवेन्यू में उनके ऑफिस के बाहर हमलावरों ने गोली मारी। बुखारी के सिर और पेट के पास गोलियां मारी गईं। जिस वक्त ये हमला हुआ उस वक्त बुखारी के साथ उनका ड्राइवर और दो सुक्षाकर्मी भी मोजूद थे। हमले में उनके दोनों सुरक्षाकर्मी भी घायल हुए हैं। बुखारी को गोली लगने के बाद नजदीक के अस्पताल में ले जाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पुलिस हमलावरों की तलाश में जुट गई है। बता दें कि एक साल पहले बुखारी को आतंकियों ने जान से मारने की धमकी दी थी।

इफ्तार पार्टी के लिए जा रहे थे बुखारी
पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बुखारी अपने ऑफिस से इफ्तार पार्टी के लिए निकल रहे थे, तभी उन पर गोली चलायी गई। इस हमले में उनकी सुरक्षा में तैनात दो पुलिसकर्मी भी घायल हो गए हैं। साल 2000 में भी शुजात बुखारी पर हमला हुआ था जिसके बाद उन्हें पुलिस सुरक्षा दी गई थी।

हमला कायरता की मिसाल
शुजात बुखारी ने निधन पर केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने लिखा 'राइजिंग कश्मीर के एडिटर शुजात बुखारी पर हमला कायरता की मिसाल है। यह कश्मीर की आवाज को दबाने की कोशिश है। वह निडर पत्रकार थे। उनके निधन से बेहद दुखी हूं। मेरी दुआ हमेशा उनके परिवार के साथ है।'

वो एक बहादुर दिल थे
राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि वो शुजात बुखारी की हत्या से दुखी हैं। वो एक बहादुर दिल थे जो कश्मीर में न्याय और शांति के लिए निडरता से लड़े। उनके परिवार के लिए मेरी संवेदनाएं, उन्हें याद किया जाएगा।

पत्रकार की मौत के बाद जम्‍मू-कश्‍मीर की मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती अस्पताल पहुंची और मीडिया से बात करते हुए रो पड़ीं।

महबूबा मुफ्ती ने जताया दुख
बुखारी की हत्या के बाद जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती ने कहा कि शुजात बुखारी के अचानक निधन से हैरान हूं और मुझे गहरा दुख हुआ। आतंक ने ईद की पूर्व संध्या पर अपना बदसूरत सिर उठाया है। मैं कड़े शब्दों में इस हिंसा की निंदा करती हूं। मैं बुखारी की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करती हूं। उनके परिवार के लिए मेरी गहरी संवेदना है।  

बीजेपी महासचिव राम माधव ने भी शुजात बुखारी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। राम माधव ने ट्वीट किया 'श्रीनगर में राइजिंग कश्मीर के एडिटर-इन-चीफ की हत्या की खबर सुनकर स्तब्ध हूं। आतंकियों द्वारा की गई एक निंदनीय और कायराना हरकत।'

शुजात बुखारी के निधन पर वरिष्ठ पत्रकार शेखर गुप्ता ने भी शोक व्यक्त किया है। उन्होंने लिखा यह पूरे कश्मीर, भारत और पत्रकार समुदाय के लिए नुकसान है।

जेएनयू छात्रसंघ की पूर्व उपाध्यक्ष और छात्र नेता शहला रशीद ने भी शुजात बुखारी के निधन पर दुख व्यक्त किया है।

कौन है शुजात बुखारी?
राइजिंग कश्मीर के एडिटर शुजात बुखारी जम्मू-कश्मीर के जाने-माने पत्रकार थे। सिंगापुर की युनिवर्सिटी से शुजात बुखारी ने पत्रकारिता में मास्टर की डिग्री हासिल की थी। कश्मीर टाइम्स से शुजात ने अपने करियर की शुरुआत की थी। 90 के दशक में वे द हिन्दू से जुड़ गए। इस दौरान कई खबरों के चलते उन्हें राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली। बुखारी बेधड़क होकर कश्मीर की आवाज उठाते रहे। वह बिना डरे आतंकियों के खिलाफ भी आवाज उठा चुके हैं। भारत के बाहर भी वे कई मुल्कों में कश्मीरी अवाम की बात रखते रहे। उन्होंने हमेशा कश्मीर में न्याय और शांति की पैरोकारी की। 

कमेंट करें
xIEk1