comScore

लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान, 11 अप्रैल को पहला चरण, 23 मई को नतीजे

March 11th, 2019 16:24 IST

हाईलाइट

  • लोकसभा चुनाव 2019 की तारीखों का ऐलान हो गया है।
  • मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने विज्ञान भवन के प्लेनरी हॉल में इसका ऐलान किया।
  • तारीखों के ऐलान के साथ ही पूरे देश में आचार संहिता लागू हो गई है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 की तारीखों का ऐलान हो गया है। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने विज्ञान भवन के प्लेनरी हॉल में इसका ऐलान किया। लोकसभा की 543 सीटों पर 7 चरण में चुनाव होंगे। इसकी शुरुआत 11 अप्रैल को होगी। दूसरे चरण का मतदान 18 अप्रैल, तीसरा 23 अप्रैल, चौथा 29 अप्रैल, पांचवा 6 मई, छठा 12 मई और सातवें चरण का मतदान 19 मई को होगा। 23 मई को नतीजे घोषित किए जाएंगे। तारीखों के ऐलान के साथ ही पूरे देश में आचार संहिता लागू हो गई है। लोकसभा चुनाव के साथ-साथ आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम और ओडिशा में विधानसभा चुनाव होंगे।

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा, पहले चरण में 20 राज्यों की 91 लोकसभा सीटों पर वोटिंग होगी। दूसरे चरण में 13 राज्यों की 97 सीटों पर चुनाव होंगे। तीसरे चरण में 14 राज्यों की 115 सीटों पर वोट डाले जाएंगे। चौथे चरण में 9 राज्यों की 71 सीटों पर वोटिंग होगी। पांचवे चरण में 7 राज्यों की 51 सीटों पर चुनाव होंगे। छठे चरण में 7 राज्यों की 59 सीटों पर चुनाव होंगे। सातवें चरण में 8 राज्यों की 59 सीटों पर चुनाव होंगे।

कहां कितने चरण में वोटिंग:
एक चरण में: आंध्र प्रदेश, अरुणाचल, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल, केरल, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, पंजाब, सिक्किम, तेलंगाना, तमिलनाडु, उत्तराखंड, अंडमान-निकोबार, दादरा नगर हवेली, दमन एंड दीव, लक्षद्वीप, दिल्ली, पुडुचेरी, चंडीगढ़

दो चरण में : कर्नाटक, मणिपुर, राजस्थान, त्रिपुरा

तीन चरण में : असम, छत्तीसगढ़

चार चरण में : झारखंड, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा

पांच चरण में : जम्मू-कश्मीर

छठवां चरण में: बिहार, हरियाणा , झारखंड, मप्र, उप्र , प. बंगाल, दिल्ली 

सात चरण में : बिहार, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल

किस राज्य में कब वोटिंग:
पहला फेज, 11 अप्रैल: (20 राज्यों की 91 सीटें) - आंध्र प्रदेश (25 सीटें), अरुणाचल (2), असम (5), बिहार (4), छत्तीसगढ़ (1) जम्मू-कश्मीर (2), महाराष्ट्र (7), मणिपुर (1), मेघालय (2), मिजोरम (1), नागालैंड (1), ओडिशा (4), सिक्किम (1), तेलंगाना (17), त्रिपुरा (1), उत्तर प्रदेश (8), उत्तराखंड (5), पश्चिम बंगाल (2), अंडमान एंड निकोबार (1), लक्षद्वीप (1)

दूसरा फेज, 18 अप्रैल: (13 राज्यों की 97 सीटें) - असम (5 सीटें), बिहार (5), छत्तीसगढ़ (3), जम्मू-कश्मीर (2), कर्नाटक (14), महाराष्ट्र (10), मणिपुर (1), ओडिशा (5), तमिलनाडु (39), त्रिपुरा (1), उत्तर प्रदेश (8), पश्चिम बंगाल (3), पुड्डुचेरी (1)

तीसरा फेज, 23 अप्रैल: (14 राज्यों की 115 सीटें) - असम (4 सीटें), बिहार (5), छत्तीसगढ़ (7), गुजरात (26), गोवा (2), जम्मू-कश्मीर (1), कर्नाटक (14), केरल (20), महाराष्ट्र (14), ओडिशा (6), उत्तर प्रदेश (10), प. बंगाल (5), दादर एंड नागर हवेली (1), दमन एंड दीव (1)

चौथा फेज, 29 अप्रैल: (9 राज्यों 71 सीटें) - बिहार (5 सीटें), जम्मू-कश्मीर (1), झारखंड (3), मध्य प्रदेश (6), महाराष्ट्र (17), ओडिशा (6), राजस्थान (13), उत्तर प्रदेश (13), प. बंगाल (8)

पांचवां फेज, 6 मई: (7 राज्यों की 51 सीटें) - बिहार (5 सीटें), जम्मू-कश्मीर (2), झारखंड (4), मप्र (7), राजस्थान (12), उप्र (14), प. बंगाल (7)

छठा फेज, 12 मई: (7 राज्यों की 59 सीटें) - बिहार (8 सीटें), हरियाणा (10), झारखंड (4), मप्र (8), उप्र (14), प. बंगाल (8), दिल्ली (7)

सातवां फेज, 19 मई: (8 राज्यों की 59 सीटें) -  बिहार (8 सीटें), झारखंड (3), मप्र (8), पंजाब (13), प. बंगाल (9), चंडीगढ़ (1), उप्र (13), हिमाचल (4)

इन राज्यों में विधानसभा चुनाव:
लाकसभा चुनाव के साथ-साथ चार राज्यों में विधानसभा चुनाव का भी ऐलान किया गया है। आंध्र प्रदेश की 175 सीटों पर 11 अप्रैल को वोटिंग होगी। अरुणाचल प्रदेश की 60 सीटों पर 11 को, सिक्किम की 32 सीटों पर 11 अप्रैल और ओडिशा की 147 सीटों पर 11, 18, 23 और 29 अप्रैल को चुनाव होंगे। माना जा रहा था कि जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान हो सकता है, मगर सुरक्षा बंदोबस्त को देखते हुए जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव अभी नहीं होंगे। राज्य में विधानसभा भंग है और वहां राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है, जबकि बाकी राज्यों में मौजूदा सरकारों का कार्यकाल समाप्त हो रहा है।

क्या कहा चुनाव आयुक्त ने?
चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा, इस बार लोकसभा चुनाव में कुल 90 करोड़ वोटर होंगे। इनमें 8.4 करोड़ नए वोटर शामिल हैं। डेढ़ करोड़ वोटर 18-19 साल के हैं। नौकरीपेशा वोटर 1.60 लाख है। मतदाता 1950 पर वोटर लिस्ट की जानकारी ले सकते हैं। राज्यों में चुनावों के दौरान किस तरह से सुरक्षा व्यवस्था बनाई जाएगी इसको लेकर पुलिस के अधिकारियों और राज्यों के गृह सचिव, डीजीपी और वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठकें की गई हैं। चुनाव की तारीखों को तय करने के दौरान विभिन्न राज्यों के बोर्ड एग्जाम की तारीखों का भी ध्यान रखा है। 

लोकसभा चुनाव के लिए दस लाख पोलिंग स्टेशन बनाए गए हैं। पिछले साल 9 लाख पोलिंग स्टेशन थे। अरोड़ा ने कहा कि पोलिंग स्टेशन पर पानी, शौचालय और बिजली के इंतेजाम भी किए गए हैं। साथ ही इस चुनाव में भी NOTA का इस्तेमाल होगा और सभी बूथों पर EVM के साथ वीवीपैट लगाए जाएंगे। सभी ईवीएम मशीनों पर उम्मीदवारों की फोटो होगी। वीवीपैट का पहली बार लोकसभा चुनावों में इस्तेमाल किया जा रहा है। EVM मूवमेंट की जीपीएस ट्रैकिंग होगी। 

 प्रचार में पर्यावरण को हानी पहुंचाने वाली सामग्री का उपयोग नहीं होगा। जो भी इसका उपयोग करेगा उस पर कार्रवाई की जाएगी। वोटर जागरुकता के लिए आयोग अभियान चलाएगा। वोटिंग से 48 घंटे पहले लाउडस्पीकर नहीं बजेंगे। अरोड़ा ने कहा चुनाव में मीडिया की सकारात्मक भूमिका है। उन्होंने कहा, पेड न्यूज पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। आयोग सोशल मीडिया पर भी प्रचार की निगरानी करेगा।

चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ आचार संहिता भी लागू हो गई है। मोबाइल पर ऐप के जरिए आयोग को आचार संहिता के उल्लंघन की जानकारी दी जा सकती है और 100 मिनट के भीतर अधिकारी को इस पर एक्शन लेना ही होगा। शिकायतकर्ता की निजता का ख्याल रखा जाएगा।

कमेंट करें
Kd4MG