comScore

एग्जिट पोल : पवार ने कहा - गुफा साधना नौटंकी, देश में बेचैनी का मौहाल, शिवसेना मन से मोदी के साथ

एग्जिट पोल : पवार ने कहा - गुफा साधना नौटंकी, देश में बेचैनी का मौहाल, शिवसेना मन से मोदी के साथ

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) अध्यक्ष शरद पवार ने न्यूज चैनलों के एग्जिट पोल को नौटंकी करार देते हुए कहा है कि इससे देशभर में बेचैनी का माहौल हो। लोग हमसे पूछ रहे हैं कि हम तो इस राह पर नहीं चलना चाह रहे थे, एग्जिट पोल जिस रास्ते देश को ले जा रहे हैं। सोमवार को पार्टी की तरफ से आयोजित रोज इफ्तार पार्टी में पवार ने कहा कि एग्जिट पोल सही नहीं हैं, इसमें हेराफेरी की गई है। सत्ताधारी दल का मीडिया पर दबाव है। उसी का फायदा उठाते हुए गलत एग्जिट पोल जारी कराए गए हैं। उन्होंने कहा कि हालांकि इससे देशभर में बेचैनी है। पर मुझे विश्वास है कि 23 मई के बाद लोगों को सकुन मिलेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साधन के लिए केदारनाथ जाने को लेकर राकांपा अध्यक्ष ने कहा कि जिस पर देश चलाने की जिम्मेदारी है, वह गुफा में जाकर बैठा है। उन्होंने मोदी की साधना को नौटंकी बताया। 

शिवसेना पूरे मन से मोदी के साथ: राऊत

लोकसभा चुनाव के कुछ एग्जिट पोल में भाजपा को अपने दम पर स्पष्ट बहुमत नहीं मिलने के अनुमान पर शिवसेना सांसद संजय राऊत ने कहा कि पार्टी भाजपा के साथ एनडीए में बनी रहेगी। इस बारे में किसी को कोई शंका नहीं होनी चाहिए। राऊत ने कहा कि शिवसेना पूरे मन, दिल और दिमाग से मोदीजी के साथ हैं। सोमवार को पत्रकारों से बातचीत में राऊत ने कहा कि हमारे लिए यह महत्वपूर्ण नहीं कि भाजपा को 240 सीटें मिलेंगी तो क्या होगा या 210 सीटें मिलेंगी तब क्या होगा। शिवसेना हमेशा भाजपा और एनडीए के बुरे वक्त की साथी रही है। अब अच्छे दिन में भी हम हमेशा एक साथ रहेंगे। आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री व टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू की गैर एनडीए दलों के नेताओं को एकजुट करने की कोशिश पर राऊत ने कहा कि वे विपक्ष के बड़े नेता हैं। वे कुछ करना चाहते हैं लेकिन देश में एक मजबूत विपक्ष की जरूरत है। अगर सरकार एनडीए की बनती है तो हमारे सामने मजबूत विपक्ष होना जरूरी है। मजबूत विपक्ष की एकता के लिए नायडू अभी से प्रयास कर रहे हैं तो हिंदुस्तान के लोकतंत्र के लिए अच्छी बात है। हम उनका स्वागत करते हैं। 

‘व्यर्थ में खुद को थका रहे नायडू’

शिवसेना ने पार्टी के मुखपत्र सामना के जरिए भी नायडू की कोशिशों पर कटाक्ष किया है। पार्टी ने कहा कि नायडू इधर से उधर भाग कर खुद को व्यर्थ में थका रहे हैं। नायडू सत्ता स्थापित करने के लिए विभिन्न दलों की एकता की गाठ नहीं बांध रहे हैं बल्कि राजनीतिक श्मशान की राख जमा कर रहे हैं। एक सवाल के जवाब में राऊत ने कहा कि महाराष्ट्र में शिवसेना को 20 से अधिक और शिवसेना को 23 से ज्यादा सीटें मिलेंगी। 
 

कमेंट करें
qkTVG