comScore

 ऑटो में बैठाकर सवारियों को ठगने वाले गिरोह का पर्दाफाश

 ऑटो में बैठाकर सवारियों को ठगने वाले गिरोह का पर्दाफाश

 डिजिटली डेस्क सतना। अमरपाटन पुलिस ने ऑटो में बैठाकर सवारियों को चूना लगाने वाले रीवा के तीन बदमाशों की घेराबंदी कर पकड़ लिया, जिनके कब्जे से नगदी समेत पासबुक व आधार कार्ड बरामद किया गया। आरोपियों को न्यायालय में पेश कर जेल भेजा गया है। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक बरगड़ा थाना ताला निवासी उमाशंकर पटेल पुत्र बुद्धसेन पटेल 53 वर्ष ने बुधवार को सेंट्रल बैंक अमरपाटन से 15 हजार रुपए निकाले थे। शाम करीब 5 बजे जब वह बैंक से निकलकर बस अड्डे की तरफ जा रहे थे। तभी बैंक से कुछ दूर ऑटो क्रमांक एमपी-17आर-1088 दिखाई दिया, जिसके चालक ने पड़हा मोहल्ले तक छोडऩे की बात कहकर अधेड़ को पिछली सीट पर बैठा लिया, जिसमें पहले से दो लोग सवार थे। इसके बाद कुछ और सवारियां खोजने के बहाने ऑटो इधर-उधर घुमाने लगा और अचानक जरूरी काम याद आने का बहाना बनाकर उमाशंकर को बीच रास्ते में उतारकर ऑटो चालक रीवा रोड की तरफ चला गया। इधर जब अधेड़ ने थैले की चेन खुली देखी तो उसे संदेह हुआ। लिहाजा उन्होंने थैला खंगाला, जिसमें छोटा बैग नहीं मिला। उस बैग में 15 हजार नगदी के अलावा बैंक की पासबुक व आधार कार्ड रखा था। तब उमाशंकर को ऑटो चालक व उसके साथियों की करतूत पता चली तो बाजार में कुछ देर तक खोजबीन करने के बाद थाने पहुंचकर शिकायत कर दिया। पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के विरुद्ध धारा 379 व 34 का मुकदमा पंजीबद्ध कर जांच शुरू कर दी। 
ऐसे आए हाथ 
पुलिस ने ऑटो सवार बदमाशों की तलाश में सर्च ऑपरेशन छेड़ दिया। नगर में लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाले गए तो मुखबिरों के जरिए भी पतासाजी की गई। इसी दौरान गुरुवार सुबह खबर मिली की ऑटो क्रमांक एमपी-17आर-1088 को रीवा रोड पर हरदी मोड़ के पास देखा गया है। इस सूचना को गंभीरता से लेते हुए टीआई राजेन्द्र मिश्रा ने उप निरीक्षक नागेश्वर मिश्रा को एक टीम के साथ रवाना कर दिया। लेकिन जैसे ही बदमाशों ने पुलिस जीप को देखा तो सड़क किनारे कुछ कागज फेंककर कच्चे रास्ते की तरफ भागने लगे। हालांकि उनकी दौड़ जल्द ही खत्म हो गई और पुलिस ने घेराबंदी कर तीन लोगों को पकड़ लिया। उनकी पहचान अफसर अंसारी पुत्र झगडू अंसारी 24 वर्ष, गुलफाम अली पुत्र शौकत अली 21 वर्ष और अनिल पासवान पुत्र गुरुप्रसाद पासवान 19 वर्ष निवासी घोघर जिला रीवा के रूप में की गई। बदमाशों के कब्जे से उमाशंकर पटेल की पासबुक, आधार कार्ड व नगदी भी बरामद कर ली गई। तीनों को गिरफ्तार कर पूछताछ के बाद न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।
 

कमेंट करें
Zb8QV