comScore

के सिवन के नाम से बनाए गए फेक अकाउंट, ISRO ने की इनसे दूर रहने की अपील

के सिवन के नाम से बनाए गए फेक अकाउंट, ISRO ने की इनसे दूर रहने की अपील

हाईलाइट

  • सिवन के ट्विटर अकाउंट पर इसरो का बयान
  • सिवन के नाम से चल रहे सोशल मीडिया अकाउंट फर्जी
  • सिवन के फर्जी अकाउंट के 40,000 से ज्यादा फॉलोवर्स

डिजिटल डेस्क, बेंगलुरु। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के प्रमुख के. सिवन के ट्विटर अकाउंट को लेकर इसरो का बयान सामने आया है। इसरो ने सिवन के नाम से चल रहे अकाउंट को फर्जी बताया है। बता दें कि 7 सितंबर को विक्रम लैंडर का इसरो से संपर्क टूट गया था। इस घटना के बाद सिवन के एक फर्जी अकाउंट को 40,000 से ज्यादा लोगों ने फॉलो करना शुरू कर दिया।

स्पेस एजेंसी ने कहा, 'यह नोट किया गया है कि कैलासवादिवु सिवन के नाम से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कई अकाउंट सक्रिय हैं। इन अकाउंट्स में उनकी तस्वीर भी लगी हुई है। इसरो यह स्पष्ट करना चाहता है कि के सिवन का किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कोई व्यक्तिगत खाता नहीं है। इसलिए ऐसे सभी खातों की सारी जानकारी प्रामाणिक नहीं है।'

इसरो का फेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर ऑफिशियल अकाउंट है। स्पेस एजेंसी ने लोगों से प्रामाणिक होने का दावा करने वाले किसी अन्य अकाउंट को फॉलो नहीं करने का आग्रह किया है। एजेंसी ने ट्विटर, फेसबुक और यूट्यूब पर अपने आधिकारिक सोशल प्लेटफॉर्म्स के लिंक भी दिए है। ट्विटर और फेसबुक पर एजेंसी का यूजर नेम 'ISRO' है, जबकि YouTube चैनल 'ISRO ऑफिशियल' नाम से है।

इसरो के वेरिफाइड ट्विटर अकाउंट में 2.8 मिलियन फॉलोवर हैं जबकि फेसबुक के वैरिफाइड अकाउंट के 2.4 मिलियन फॉलोवर है। YouTube का अकाउंट वेरिफाइड नहीं है, लेकिन इस समय इसके 3,34,767 सब्सक्राइबर्स हैं।

फर्जी आईडी के जरिए फॉलोवर्स को आकर्षित करने के तुरंत बाद, इनमें से अधिकांश अकाउंट ने अपना नाम और साथ ही यूजर नेम बदल दिया है।

बता दें कि के. सिवन को हर कोई सलाम कर रहा है क्योंकि जिस संघर्ष के साथ वह इस पद तक पहुंचे और फिर अंतरिक्ष की दुनिया में भारत का झंडा बुलंद किया। 

कमेंट करें
KnWgm