comScore

नागपुर और औरंगाबाद में दवा दुकानों पर एफडीए की कार्रवाई, बगैर डॉक्टर की पर्ची के दे रहे थे एंटी बायोटिक

नागपुर और औरंगाबाद में दवा दुकानों पर एफडीए की कार्रवाई, बगैर डॉक्टर की पर्ची के दे रहे थे एंटी बायोटिक

डिजिटल डेस्क, मुंबई। अन्न एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) ने राज्यभर में बिना डॉक्टर की पर्ची के एंटी बायोटिक दवाएं बेंचने वाले दुकानदारों पर कार्रवाई की है। जून और जुलाई महीने में 43 दवा दुकानों के खिलाफ कार्रवाई की गई है जिनमें नागपुर विभाग की छह व औरंगाबाद विभाग की 5 दुकानें भी शामिल हैं। सबसे ज्यादा 13 दुकानदारों के खिलाफ मुंबई विभाग में कार्रवाई की गई है।

नहीं बेच सकते बगैर डॉक्टर की पर्ची के एंटी बायोटिक दवाएं 

कई असाध्य बीमारियां विषाणुओं और जीवाणुओं के चलते होतीं हैं। इन बीमारियों के इलाज के लिए एंटी बायोटिक का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन अगर सही मात्रा, कालावधि और निर्देशानुसार एंटी बायोटिक का इस्तेमाल न किया जाए तो विषाणुओं और जीवाणुओं की प्रतिकारक क्षमता बढ़ जाती है। इसके बाद उस पर एंटी बायोटिक भी बेअसर होने लगती है। इसके चलते कई बार बीमारियां लाइलाज हो जातीं हैं। इसके अलावा ज्यादा एंटी बायोटिक खाने वालों में भी रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी आ जाती है। नियमों के मुताबिक डॉक्टर की पर्ची के बिना एंटीबायोटिक दवाओं की बिक्री नहीं की जा सकती। इसीलिए ऐसा करते पकड़े गए दुकानदारों के खिलाफ औषध व सौंदर्य प्रसाधन अधिनियम 65 के उल्लंघन के आरोप में कार्रवाई शुरू की गई है। 

नागपुर की 6 औरंगाबाद की 5 दुकाने शामिल

एफडीए कमिश्नर डॉक्टर पल्लवी दराडे ने कहा कि अगर एंटीबायोटिक समेत कई ऐसी दवाएं हैं जिन्हें डॉक्टर की पर्ची के बिना नहीं बेचा जा सकता अगर दुकानदार इन नियमों का उल्लंघन करेंगे को उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि कई शिकायतें मिलने के बाद बिना डॉक्टर की पर्ची एंटी बायोटिक बेचने वाले दुकानदारों पर नजर रखनी शुरू की गई और ऐसा करने वाले 43 मेडिकल स्टोर के खिलाफ कार्रवाई की गई। जून महीने से जारी इस मुहिम में मुंबई विभाग में 13, कोंकण विभाग में 6, पुणे विभाग में 8, नाशिक विभाग में 5, औरंगाबाद विभाग में 5 और नागपुर विभाग में 6 दवा की दुकानों के खिलाफ कार्रवाई की गई। जिन दवा की दुकानों को बिना डॉक्टर की पर्ची के एंटीबायोटिक बेचते पकड़ा गया उनमें मुंबई की अपोला फार्मेसी, जेनरीको और मेट्रो मेडिकल जैसी बड़ी दवा की दुकानें शामिल हैं।  

कमेंट करें
CHfBZ