comScore

बुखार के कारण हो रही विकलांग जैसी हालत, डॉक्टर भी हैरान

October 15th, 2018 20:25 IST
बुखार के कारण हो रही विकलांग जैसी हालत, डॉक्टर भी हैरान

डिजिटल डेस्क, कटनी। मौसम के परिवर्तन के साथ ही लोगों में ऐसा फीवर का अटैक हो रहा, जिससे लोगों में विकलांगता जैसे हालात पैदा हो रहे हैं। जिला अस्पताल में प्रति दिन सौ से अधिक बुखार से पीडि़त अधिक मरीज पहुंच रहे है। सोमवार को जिला अस्पताल में आधा दर्जन ऐसे बुखार पीडि़त मरीज पहुंचे जिनकी हालत देखकर डॉक्टर भी हतप्रभ रह गए।  एक पखवाड़े में बुखार से पीडि़त 50 से ज्यादा मरीजों जिला अस्पताल पहुंचे, जिन्हे बुखार आने के बाद शारिरिक शिथिलता के साथ ही जोड़ों में असहनीय दर्द एवं सूजन के लक्षण हैं।

गोद में उठाकर लाते हैं परिजन
बीमारी के अटैक ने कई पीडि़तों को उठने-बैठने तक मोहताज कर रखा है। जिला अस्पताल में ऐसी बीमारी से पीडि़त बच्चों और बुजुर्गों की संख्या ज्यादा है। बीमारों की हालत यह है कि इलाज के लिए परिजन उन्हें गोद में उठाकर लाने मजबूर हैं। सामान्य बुखार में  उपचार  के साथ ही विकलांगता जैसे हालात से पीडि़तों की संख्या भी बढ़़ी है।  वर्तमान में जिला अस्पताल में शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों से एक दर्जन से अधिक मरीजों का इलाज जारी है। सबसे ज्यादा मरीज सघन बस्तियों के रहने वाले ही सामने आए हैं।

बीमारी से डॉक्टर की हैरान
जिला अस्पताल से प्राप्त जानकारी के अनुसार एक पखवाड़े में 1348 मरीजों ने ओपीडी में इलाज के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है।  जिसमें से 277 मरीज बुखार पीडि़त सामने आए हैं। एक-दो दिन की बुखार में ही पीउि़त की हालत महीनों से बीमारों जैसी हो रही है। इस नई बीमारी के सामने आने से चिकित्सक भी हैरान हैं। चिकित्सकों से अनुसार डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया की तरह ही इस वायरस का अटैक मरीजों में देखा जा रहा है।  इस बीमारी से पीडि़त मरीज का  इलाज के साथ ही रक्त परीक्षण भी कराया जा रहा है। चिकित्सकों के अनुसार एक बार इस बीमारी से पीडि़त होने के बाद आमतौर पर मरीज को रेगुलर इलाज के बाद कम से क म दो माह से भी ज्यादा का समय ठीक होने में लग सकता है।

हाथ-पैरों की पीड़ा के साथ ही दिमाग पर असर
जिला अस्पताल में रोजाना उपचार के लिए आ रहे मरीजों में से अधिकांश बुखार पीडि़तों में से कइयों को हाथ,पैर में सुन्नता के साथ दिमाग में गर्मी और असहनीय दर्द की शिकायत हो रही है। अस्पताल में उपचार कराने आए उमरियापान निवासी अमन भूमिया के अनुसार तीन दिन के बुखार के बाद  खड़े होना मुश्किल हो रहा  है। एनकेजे पड़रिया निवासी बलराज सिंह ठाकुर के अनुसार तीन दिन की बुखार में ही उनकी बेटी की हालत महीनों से बीमार जैसी हो गई है।

इनका कहना है
डेंगू, चिकनगुनिया जैसी बीमारियों की तरह यह नई प्रकार की बीमारी है। अस्पताल पहुंचने वाले सभी मरीजों का प्राथमिकता से इलाज किया जा रहा है। वर्तमान में चल रहे बीमारी के दौर में मरीज का इलाज त्वरित कराना जरूरी है।
डॉ. एसके शर्मा, सिविल सर्जन

कमेंट करें
bi58j