comScore
Dainik Bhaskar Hindi

AMU में रंगदारी नहीं मिलने पर दबंग छात्रों ने की फायरिंग, दो छात्र घायल

BhaskarHindi.com | Last Modified - May 16th, 2018 13:57 IST

4.2k
0
0
AMU में रंगदारी नहीं मिलने पर दबंग छात्रों ने की फायरिंग, दो छात्र घायल

डिजिटल डेस्क, अलीगढ़। उत्तर प्रदेश की अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में जिन्ना विवाद के बाद अब छात्रों से मारपीट और फायरिंग का मामला सामने आया है। एएमयू कैंपस के आरएम हॉल में गोलीबारी हुई जिसमें दो छात्र घायल हो गए। घायल छात्रों के मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जानकारी के मुताबिक दोनों घायल छात्र सगे भाई हैं। फिलहाल पीड़ितों की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।


दरअसल यूनिवर्सिटी के ही दबंग छात्र, दो छात्रों से तीन लाख रुपये की रंगदारी मांग रहे थे। जब उन्होंने रंगदारी देने से मना कर दिया तो दबंगों ने उन छात्रों के साथ मारपीट करने के साथ ही चाकू और तमंचे की बट से हमला कर दिया। वहीं दूसरी ओर ये आरोप भी लगाया जा रहा है कि दबंग छात्र जबरन छात्रों को जिन्ना मामले को लेकर चल रहे धरने में शामिल करना चाहते थे। मना करने पर छात्रों पर फायरिंग कर दी। 


जानकारी के मुताबिक एएमयू में सोमवार देर रात कैंपस के अंदर बदायूं के रहने वाले दो छात्रों कमरुल हसन और उसके भाई अजीम पर आरएस हॉल में आधा दर्जन लड़कों ने हमला किया है। उनसे जबरन तीन लाख रुपये की मांग की जा रही थी। वहीं घायल छात्रों का आरोप है कि एएमयू में चल रहे धरने पर उनको जबरन बुलाया जा रहा था। मना करने पर हमला कर दिया।


एसएसपी अजय कुमार साहनी ने कहा कि रंगदारी नहीं देने पर बाहरी लोगों ने एएमयू के छात्रों पर हमला किया है, बताया जा रहा है कि हमलावर युवक छात्रसंघ अध्यक्ष के साथ रहते हैं। यही लोग धरने पर बैठने का दवाब भी बना रहे थे। इस मामले को लेकर बाहरी तत्वों को कैंपस में आने से रोकने के लिए भी एएमयू प्रशासन से कहा जाएगा।


बता दें कि एएमयू छात्रसंघ ने मुहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर 2 मई को परिसर में हंगामा करने वाले तत्वों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर जारी धरना-प्रदर्शन को और तेज करने की कोशिश कर रहे हैं। मंगलवार रात हुई छात्रसंघ की बैठक में ये फैसला लिया गया है। विरोध प्रदर्शन में छात्रसंघ के अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी, सचिव मुहम्मद फ़हद और पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष फैजुल हसन शामिल हुए थे। 


गौरतलब है कि एएमयू छात्रसंघ के नेताओं ने विश्वविद्यालय परिसर में करीब दो हफ्ते से जारी धरना-प्रदर्शन को खत्म करने की पहल के तहत जिले के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक की थी। इस दौरान ये मांग रखी गई थी कि 2 मई को एएमयू के छात्रों पर लाठीचार्ज करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। 


बता दें कि एएमयू के यूनियन हॉल में पाकिस्तान के राष्ट्रपिता जिन्ना की तस्वीर लगी होने के विरोध में हिन्दूवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं ने 2 मई को एएमयू परिसर में हंगामा किया था। उस वक्त पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी भी एएमयू के गेस्ट हाउस में मौजूद थे। छात्रों ने हंगामा करने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई के लिये प्रदर्शन किया था। इस दौरान स्थिति को काबू करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया था। उसके बाद से ही विश्वविद्यालय के बाब-ए-सैयद गेट के पास छात्र धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

ई-पेपर