comScore

फूड इंस्पेक्टर्स पर रहेगा SDM का सख्त कंट्रोल, नहीं मार सकेंगे बंक

फूड इंस्पेक्टर्स पर रहेगा SDM का सख्त कंट्रोल, नहीं मार सकेंगे बंक

डिजिटल डेस्क, कटनी। जिले के दो लाख राशन उपभोक्ताओं के लिए यह अच्छी खबर है कि अब खाद्य विभाग के फूड इंस्पेक्टर्स फील्ड के नाम पर बंक नहीं मार सकेंगे। इसके लिए संबंधित ब्लाक क्षेत्र के संबंधित खाद्य निरीक्षकों पर संबंधित अनुविभागीय कार्यालय राजस्व का सख्त पहरा लगा दिया गया है। इस नई पहल से जहां खाद्य निरीक्षकों की मौज-मस्ती प्रभावित होगी। वहीं राशन उपभोक्ताओं को सही समय, सही वजन और गुणवत्तायुक्त अनाज की उपलब्धता होगी। वर्तमान समय में जिले भर में छह खाद्य निरीक्षकों के हाथों मेें 410 शासकीय राशन दुकानों की कमान है।

सभी ब्लाक में हैं इंस्पेक्टर्स
जिले के सभी छह विकासखण्डों में इंस्पेक्टर्स तैनात हैं। विजयराघवगढ़ क्षेत्र में जहां राजधर साकेत पदस्थ हैं। वहीं बड़वारा क्षेत्र में दुकानों की निगरानी का जिम्मा संतोष नंदनवार को दिया गया है। कटनी विकासखण्ड का प्रभार जितेन्द्र बर्मन के पास है। बहोरीबंद में यह जिम्मा विभाग ने प्रमोद मिश्रा को सौंपा है। ढीमरखेड़ा में बृजेश जाटव को दुकानों के ऊपर नजर रखने के लिए शासन अच्छी-खासी वेतन दे रहे ही। वंदना जैन को शहरी क्षेत्र के साथ रीठी का प्रभार दिया गया है।

अप-डाउन की रही कुपरंपरा
खाद्य निरीक्षकों के अप-डाउन की कुपरंपरा अरसे से रही। आधार सीडिंग में पिछड़ने के कारण जब खाद्य निरीक्षकों की खोज-बीन की गई। तब प्रशासन ने पाया कि कई खाद्य निरीक्षक तो अप-डाउन की कुपरंपरा पालते हुए मैदान में ही नहीं जा रहे हैं। विकासखण्ड मुख्यालय से भी नदारत रहते हैं। जिसके कारण राशन कार्डधारी की शिकायतों का निराकरण नहीं हो रहा है। इस संबंध में कई फूड इंस्पेक्टर को कारण बताओ पत्र भी जारी किया गया था।

एसडीएम को दिया जिम्मा
विकासखण्ड में खाद्य निरीक्षक तैनात रहें। जिसका जिम्मा संबंधित ब्लाक क्षेत्र के एसडीएम कार्यालय को दिया गया है। यहीं पर उनकी उपस्थिति दर्ज की जाएगी, तो साथ ही फील्ड में जाने पर इसकी जानकारी भी वे संबंधित अनुविभागीय अधिकारी को देंगे। इसके पहले वे सीधे जिला खाद्य आपूर्ति कार्यालय को ही अपनी जानकारी देते थे, लेकिन इसमें अधिकांश समय वे बंक मारते ही फील्ड में होने की जानकारी दे दिया करते थे। अधिकांश समय निरीक्षकों का जमावड़ा जिला खाद्य आपूर्ति कार्यालय में ही होता रहा।

इनका कहना है
सभी खाद्य निरीक्षकों को ब्लाक मुख्यालय में ही रहने के निर्देश पहले से ही रहे। इसके बावजूद इस तरह की शिकायत लगातार मिल रही थी कि निरीक्षक ब्लाक मुख्यालय में नहीं रहते। कलेक्टर के निर्देश पर अब सभी खाद्य निरीक्षक संबंधित विकासखंड क्षेत्र में भी मुख्यालय बनाकर रहेंगे।
- रविकांत ठाकुर, सहायक खाद्य आपूर्ति अधिकारी
 

कमेंट करें
dEKGt