comScore

शातिर चोर गिरोह के चार बदमाश गिरफ्तार - 11 वारदातों का खुलासा,6 लाख के गहने बरामद

शातिर चोर गिरोह के चार बदमाश गिरफ्तार - 11 वारदातों का खुलासा,6 लाख के गहने बरामद

डिजिटल डेस्क,सतना। शहर में लगातार हो रही चोरी की वारदातों से जहां आम जन ने घबराहट फैल रही। वहीं पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े हो रहे थे। हालात कुछ इस तरह हो गए थे कि अपराधी आंखों के नीचे से काजल चुरा ले जाते थे। इन परिस्थितयोंं में पुलिस कप्तान रियाज इकबाल ने चोरी के मामलों का पर्दाफाश करने के लिए तीनों थाना क्षेत्रों में विशेष टीम का गठन कर सभी को टास्क दे दिया। नतीजतन योजनाबद्ध तरीके से जांच पड़ताल शुरु कर पुलिस ने शातिर बदमाशों को बेनकाब कर 11 चोरियों का खुलासा कर दिया तो 6 लाख के आभूषण व अन्य सामान बरामद कर लिया है।  

ऐसे जुड़ी कड़ियां

कोलगवां पुलिस ने अलग-अलग माध्यमों से सुराग जुटाए, जिनके तार नारायण तालाब बसोर बस्ती से जुड़ गए। लिहाजा संयुक्त टीम ने बृहद सर्च ऑपरेशन चलाकर चप्पे-चप्पे को खंगाल डाला,जिससे हिस्ट्रीशीटर सूरज बसोर पुत्र शिवपाल उर्फ बग्गड़ 28 वर्ष निवासी उतैली बसोर बस्ती हाल संग्राम कालोनी,उसके भाई नीरज बंशकार पुत्र शिवपाल 19 वर्ष, दीपक बंशकार पुत्र लगड़ा 21 वर्ष निवासी नारायण तालाब बसोर बस्ती और अरुण वंशकार पुत्र भगवान 19 वर्ष निवासी मंटू पार्क बसोर बस्ती कीटगंज जिला प्रयागराज( उत्तर प्रदेश) हाल सतना पकड़ में आ गए। इन सभी के पुराने आपराधिक रिकार्ड को देखते हुए कड़ाई से पूछताछ की गई,तो बदमाशों ने नारायण तालाब बस्ती में रहने वाले लंबू बंशल, बोग्गा बंशकार और मनी बंशकार निवासी आईटीआई बसोर बस्ती के साथ मिलकर शहर में अलग-अलग स्थानों पर 11 वारदात करने का जुर्म स्वीकार कर लिया। ये तीनों आरोपी फिलहाल पकड़ से बाहर चल रहे है। 

रेकी के बाद करते थे हाथ साफ 

पकड़ में आए बदमाशों को कोलगवां पुलिस ने कोर्ट में पेश कर 5 दिन की रिमांड पर लिया था। इस अवधि में तीनों थानों की टीम ने बारी-बारी से पूछताछ करने के अलावा सीसीटीवी कैमरो के फुटेज व अन्य माध्यमों से जुटाए सुरागो की तस्दीक कराई तो यह बात सामने आई की गिरोह के सदस्य दिन में फेरी लगाने,काम की तलाश अथवा किसी का पता पूछने के बहाने शहर के अलग-अलग मोहल्लों में घूमकर पता लगाते थे कि कौन सा घर कब से खाली है। वहां रहने वाले कितने दिनों के लिए बाहर गए हैं। इसके अलावा अलग-बगल रहने वालो की भी निगरानी करते थे,साथ ही सीसीटीवी कैमरे, स्ट्रीट लाइट तक की गिनती कर लेते थे। पूरी तैयारी के बाद तय समय पर चिन्हित घर के पास एकत्र होकर धावा बोल देते और 2 घंटे के भीतर माल समेट कर चंपत हो जाते थे। कई बार तो आटो या लोडर गाड़ी का इस्तेमाल सामान ले जाने में भी कर चुके है। पुलिस ने सायबर सेल के जरिए चोरो के मोबाइल की सीडीआर और टावर लोकेशन निकालकर बयानों की तस्दीक की है। 

गैंग लीडर सूरज है बेहद शातिर

बसोर गिरोह का लीडर सूरज बेहद शातिर और दुर्दांत है। इसके खिलाफ कोलगवां थाने में हत्या, हत्या के प्रयास, बलवा, मारपीट, चोरी, बिस्फोटक अधिनियम और शराब तस्करी के 10 अपराध पंजीबद्ध है तो सिटी कोतवाली में लूट व चोरी के 7 प्रकरण दर्ज है। आरोपी के खिलाफ जिला बदर की कार्रवाई हो चुकी है तो वह निगरानी बदमाशों की सूची में भी शामिल है। गैंग लीडर के विरुद्ध न्यायालय से एक स्थाई और चार गिरफ्तारी वारंट भी लंबित थे। बताया जाता है कि इसके कारनामो की फेहरिस्त थानों में दर्ज मामलो से कही लंबी है। 
 

कमेंट करें
8P3SJ