comScore
Dainik Bhaskar Hindi

स्पोर्टस व साइंस प्रदर्शनी के लिए मिलती है निधि, फिर भी की जा रही चंदा वसूली

BhaskarHindi.com | Last Modified - December 06th, 2018 13:48 IST

1.3k
0
0
स्पोर्टस व साइंस प्रदर्शनी के लिए मिलती है निधि, फिर भी की जा रही चंदा वसूली

डिजिटल डेस्क, नागपुर। शालेय विद्यार्थियों के लिए आयोजित किए जाने वाली क्रीड़ा स्पर्धा और विज्ञान प्रदर्शनी के लिए शिक्षकों से चंदा वसूल किया जा रहा है। जबकि जिला परिषद से निधि  दी जाती है। महाराष्ट्र राज्य प्राथमिक शिक्षक समिति ने शिक्षकों से चंदा वसूली का सख्त विरोध किया है। जिप स्कूलों के केंद्र, बीट, गट, विभाग और जिला स्तरीय क्रीड़ा स्पर्धा तथा सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इस आयोजन के लिए जिला परिषद प्रशासन की ओर से निधि आवंटित की जाती है। हालांकि पहले निधि नहीं दी जाती थी। शिक्षक संगठन निधि आवंटन करने की मांग लगातार करता रहा। कुछ ही वर्ष पहले जिप प्रशासन ने यह मांग पूरी करते हुए निधि का प्रावधान किया है। तहसील स्तर पर विज्ञान प्रदर्शनी के लिए भी निधि का प्रावधान किया गया है। 

महाराष्ट्र राज्य प्राथमिक शिक्षक समिति के जिलाध्यक्ष लीलाधर ठाकरे ने बताया कि केंद्र प्रमुख तथा विस्तार अधिकारी क्रीड़ा व सांस्कृतिक स्पर्धा के लिए शिक्षकों से चंदा वसूल कर रहे हैं। ठाकरे ने आरोप लगाया है कि निधि प्राप्त नहीं हुई, या निधि कम पड़ने का झांसा देकर चंदा वसूली का गोरखधंधा किया गया है। 

शिक्षकों से चंदा वसूली बंद  हो
क्रीड़ा व सांस्कृतिक स्पर्धा के आयोजन का खर्च करने के लिए जिला परिषद की ओर से निधि दी जाती है। शिक्षकों को झांसा देकर चंदा वसूल किया जा रहा है। इसे तत्काल बंद करना चाहिए। इस संबंध में शिक्षणाधिकारी (प्राथमिक) को ज्ञापन सौंपकर चंदा वसूली पर रोक लगाने व संबंधितों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। 

रजिस्ट्रेशन के नाम पर भी वसूली
जिला परिषद के शैक्षणिक उपक्रम अंतर्गत क्रीड़ा व सांस्कृतिक स्पर्धा का आयोजन किया जाता है। स्पर्धा में स्कूलों को नि:शुल्क प्रवेश दिया जाता है। वसूली के लिए रजिस्ट्रेशन के आड़ में प्रति स्कूल 200-300 रुपए वसूल किया जा रहा है। कार्यक्रम का भव्य आयोजन करने का झांसा देकर शिक्षकों व स्कूलों से अवैध वसूली जारी है। 

मुझे कोई शिकायत नहीं मिली
शिक्षकों से वसूली की मुझे कोई शिकायत नहीं मिली है। यदि शिकायत मिलती है, तो उचित कार्रवाई की जाएगी।   - चिंतामण वंजारी, शिक्षणाधिकारी (प्राथमिक),जिला परिषद
 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें