comScore

किन्नर चमचम का पुलिस बंदोबस्त में अंतिम संस्कार, हमले हो गई थी गंभीर

किन्नर चमचम का पुलिस बंदोबस्त में अंतिम संस्कार, हमले हो गई थी गंभीर

डिजिटल डेस्क, नागपुर। किन्नर चमचम गजभिये का  मानकापुर घाट पर दफनाकर अंतिम संस्कार कर दिया गया। सोमवार को उपचार के दौरान चमचम ने सीताबर्डी के एक निजी अस्पताल में अपनी जिंदगी की आखिरी सांस ली थी। चमचम के साथियों ने उसके शव के सामने विलाप किया। उसके बाद उसे आखिरी बिदाई दी गई।  वैसे तो किन्नरों का अंतिम संस्कार बेहद गोपनीय होता है। संभवत: यह पहली बार हुआ है जब किसी किन्नर के शव का सार्वजनिक रुप से अंतिम संस्कार किया गया है। चमचम की शव यात्रा में पुलिस का बंदोबस्त लगाया गया था। उसकी अंतिम यात्रा में सामान्य नागरिक व उसके अपने साथी शामिल हुए थे। चमचम पर उत्तमबाबा सेनापति और उसके गैंग ने हमला कर दिया। इस हमले में चमचम गंभीर रूप से जख्मी हो गई थी। कलमना पुलिस ने पहले हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया था।

हमलावरों पर प्रकरण दर्ज
अब उत्तमबाबा और उसके साथियों पर हत्या का प्रकरण दर्ज किया है। बता दें कि विदर्भ की प्रसिद्ध किन्नर चमचम ऊर्फ प्रवीण गजभिये (25) मानकापुर निवासी की पैसे के लेन-देन और वर्चस्व बनाए रखने के लिए किन्नर गुरु उत्तमबाबा सेनापति ने अपने साथियों के साथ चमचम पर जानलेवा हमला किया। हमले में गंभीर जख्मी चमचम  की उपचार के दौरान मौत हो गई थी। चमचम की हत्या के आरोप में आरोपी उत्तम बाबा तपन सेनापति (कामनानगर), चच्चू ऊर्फ कमल उईके (21)  हंसापुरी, किरण अशोक गवले (39)  हंसापुरी, लखन ऊर्फ सोनू श्रीराम पारशिवनीकर और शेख निसार शेख सादिक को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। यह सभी आरोपी फिलहाल जेल में बंद हैं। 

 मेयो में किन्नरों की भीड़
मंगलवार को चमचम का शव मेयो अस्पताल से उसके घर पर ले जाया गया। अंतिम संस्कार में उसकी मां भी शामिल हुई। चमचम के बाद उसकी मां बेसहारा हो गई। शाम करीब 4 बजे उसका मानकापुर घाट  पर उसके समर्थकों ने  अंतिम विदाई दी। इधर, उत्तमबाबा के घर के सामने भी भीड़ लग गई थी। पुलिस ने भीड़ को शांत किया। चमचम की हत्या को लेकर उसकी बिरादरी में काफी नाराजगी है। 

कमेंट करें
OglFH