comScore
Dainik Bhaskar Hindi

लोगों के दिलों तक पहुंचती है गजल- शायर कलीम खान

BhaskarHindi.com | Last Modified - February 13th, 2019 19:37 IST

966
0
0
लोगों के दिलों तक पहुंचती है गजल- शायर कलीम खान

डिजिटल डेस्क, नागपुर। गजल शायर के दिल की आह से उपजती है और लोगों के दिलों तक पहुंचती है। कविता से शब्दों को हटाने पर कविता का मर्म बचता है। यह बात आर्णी के शायर कलीम खान ने कही। वे देश के 24 शायरों के साझा संग्रह सृजन बिंब प्रकाशन की नव कृति ‘मंजर' के लोकार्पण समारोह में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। कार्यक्रम का आयोजन विदर्भ हिंदी साहित्य सम्मेलन के उत्कर्ष सभागृह में किया गया। अध्यक्षता साहित्यकार डाॅ. सागर खादीवाला ने की। वरिष्ठ उद्घोषक किशन शर्मा एवं लेखक हेमंत लोढ़ा विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे। सृजन बिंब के संचालकद्वय रीमा दीवान चड्ढा एवं अविनाश बागड़े के संयोजन एवं संचालन में कार्यक्रम हुआ।

मंजर का संपादन कलीम खान ने किया है। किशन शर्मा ने पुराने शायरों को याद किया, तो हेमंत लोढ़ा ने मंजर के सभी रचनाकारों के एक-एक शेर पढ़कर सुनाए। डाॅ. खादीवाला ने सृजन बिंब के प्रयासों की सराहना की और चुनिंदा शेर सुनाए। इस अवसर पर साहित्यकार इंदिरा किसलय, रमा व प्रवीर वर्मा, जयंत गायकवाड़, देवदत्त सन्गेप, मिली व ललित विकमशी, रति चौबे, अमोल तरार, अनिका तरार, साजिद भाई, प्रभा लोढ़ा, मधु सिंघी, रंजना श्रीवास्तव, माधव बोबड़े, माया शर्मा, अंजुलिका चावला उपस्थित थे।

ये रचनाकार संग्रह में हैं शामिल
नागपुर के रचनाकारों में सुधा राठौर, डाॅ. रमेश गांधी, डाॅ. विनोद आसुदानी, डाॅ. आदिला खादीवाला, डाॅ. शशि कृष्णा भार्गव, मधु गुप्ता, अनिल मालोकर, डाॅ. आरती केलकर, संतोष पांडेय ‘बादल’ , रीमा दीवान चड्ढा एवं अविनाश बागड़े, अमेरिका से प्रेमलता शर्मा और देश के विभिन्न भागों से अल्पा जितेश तन्ना, विवेक कविश्वर, विवेक सिंह अक्फर, खुदेजा खान, विपीन दीवान, ब्रिजेश मिश्रा, संजय कौशिक विज्ञात, रिंकू रेणु वर्मा एवं राजेंद्र बांगरे शामिल हैं।

ये मोह-मोह के धागे…
"ये मोह-मोह के धागे',‘सत्यम् शिवम् सुंदरम्’,‘एक प्यार का नगमा है’ आदि सुरीले गानों की प्रस्तुतियों ने दर्शकों का मन मोह लिया। गायकों की मनमोहक प्रस्तुति से पूरा हॉल ‘वंस मोर’ की आवाज से गूंजता रहा। रागा टू रॉक की ओर से सीताबर्डी स्थित विदर्भ हिंदी साहित्य सम्मेलन के मधुरम सभागृह में नए-पुराने संगीतमय गीतों का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की संकल्पना रागा टू रॉक की संचालिका संजीवनी जगताप की थी।

कार्यक्रम में मानसी पनपालिया, श्वेता, राजेश आगरकर, सिमरन, रजत, उमा रघुरामन, अलिशा ठाकुर, आकाश भूषण, मृण्मयी जगताप, अनिकेत आदि गायकों एक से बढ़कर एक गीत प्रस्तुत किए। संगीता जगताप व संजीव जगताप ने युवाओं का पसंदीदा ‘यम्मा- यम्मा’ गीत पेश किया। हेमंत दारव्हेकर, विलास दांडगे तथा उमा ने अपनी आवाज का जादू बिखेरा।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

app-download